in , ,

ई-पास सिस्टम से राशन वितरण में योगी सरकार ने बचाए 1000 करोड़ : शलभ मणि त्रिपाठी

Yogi government saved 1000 crores in ration distribution through e-pass system: Shalabh Mani Tripathi
Yogi government saved 1000 crores in ration distribution through e-pass system: Shalabh Mani Tripathi

लखनऊ : शलभ मणि त्रिपाठी ने कहा कि ई-पास सिस्टम से राशन वितरण में योगी सरकार ने 1000 करोड़ बचाए।Yogi government saved 1000 crores in ration distribution through e-pass system: Shalabh Mani Tripathi

भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता शलभ मणि त्रिपाठी ने कहा कि राशन वितरण प्रणाली में किए गए बेतहरीन उपायों की बदौलत प्रदेश की योगी आदित्यनाथ की सरकार ने अभूतपूर्व सफलता हासिल करते हुए पिछले दो वर्षो में 1000 करोड़ रूपए के खाद्यान्न की बचत की है।

ये वही खाद्यान्न है जो फर्जी राशन कार्डों और भ्रष्ट कोटेदारों- अफसरो की मिलीभगत से राशन माफियाओं की जेब में जाता था। प्रदेश की कमान संभालने के बाद से ही मुख्यमंत्री ने राशन वितरण प्रणाली में सुधार को प्राथमिकता पर रखा और अधिकारियों को फूलप्रूफ सिस्टम बनाने का आदेश दिया।

Yogi government saved 1000 crores in ration distribution through e-pass system: Shalabh Mani Tripathi
Yogi government saved 1000 crores in ration distribution through e-pass system: Shalabh Mani Tripathi

इसी का परिणाम है कि आज उत्तर प्रदेश में जहां सौ फीसदी पात्र और निर्धन लोगों तक राशन पहुंचने लगा है तो वहीं कई सालों से काबिज राशन माफियाओं का पूरी तरफ सफाया हो गया है। यूपी सरकार ने शारीरिक तौर पर अक्षम और बुजुर्गों को घर तक राशन पहुंचाने का भी इंतजाम किया है। ऐसे 17 हजार लोगों के घरों तक कोटेदार खुद राशन पहुंचा रहे हैं।

शलभ मणि त्रिपाठी ने कहा कि इतना ही नहीं, राशन वितरण प्रणाली को और सुविधाजनक व पारदर्शी बनाने के लिए यूपी सरकार ने नगर क्षेत्रों में पोर्टेबिलिटी का सिस्टम लागू कर दिया है। इसके तहत नगरीय क्षेत्र में रहने वाले राशनकार्ड धारकों को किसी भी कोटे की दुकान से राशन लेने का अधिकार होगा।

इस नई व्यवस्था से उपभोक्ताओं को सुविधा तो होगी ही, उन कोटेदारों के आचार व्यवहार की भी समीक्षा हो पाएगी जिनकी दुकानों से लोग राशन नहीं लेंगे।

प्रदेश प्रवक्ता शलभ मणि त्रिपाठी ने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने जब प्रदेश की कमान संभाली थी तब प्रदेश की राशन वितरण प्रणाली पूरी तरह चैपट थी। बसपा और सपा सरकारें खाद्यान्न घोटाले के लिए ही बदनाम रहीं। निर्धनो को राशन नहीं मिलता था। दस्तावेजों में हेराफेरी कर गरीबों का खाद्यान्न लूट लिया जाता था और सारा पैसा राशन माफियाओं की जेब में चला जाता था।

आए दिन खाद्यान्न तस्करी की खबरें आती थीं। बड़ी संख्या में बांग्लादेशी नागरिक भी देश के निर्धनों का हक छीन कर राशन हासिल कर रहे थे। ऐसे हालात में व्यवस्था संभालने के बाद मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्नाथ जी ने राशनकार्ड धारकों को आधार कार्ड से जोड़कर ई-पास यानी कि ई प्वाइंट आफ सेल प्रक्रिया लागू कर दी।

इसके चलते बड़ी तादाद में फर्जी राशनकार्ड धारक पकड़ लिए गए और पात्र लोग ही बचे। इन लोगों को ई-पास सिस्टम से राशन दिया जा रहा है।

प्रदेश प्रवक्ता ने कहा कि आज सरकार तीन करोड़ 57 लाख राशन कार्डों के जरिए 14 करोड़ सात लाख लोगों को सफलतापूर्वक राशन मुहैया करा रही है और प्रदेश की ये व्यवस्था राशन वितरण प्रणाली में एक नजीर बन चुकी है।

Written by National TV

nihar shanti amla pathshala funwala

उत्तर प्रदेश और झारखंड में निहार शांति आंवला की ‘पाठशाला फनवाला‘

Various events organized at KD Singh Babu Stadium on national Sports Day

खेल दिवस पर केडी सिंह बाबू स्टेडियम में हुए विविध आयोजन