in

BHU की चीफ प्रॉक्टर की गिरफ्तारी पर हाईकोर्ट ने लगाई रोक कहा ‘अगर इसी तरह से अराजकता के हालात बने रहे तो कैंपस को भी बंद करना पड़ेगा’

प्रयागराज / इलाहाबाद : इलाहाबाद हाईकोर्ट ने काशी हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) वाराणसी की चीफ प्रॉक्टर रायना सिंह को बडी राहत दी है । और छात्र हत्या के मामले में नामजदगी होने के बाद गिरफ्तारी की कार्रवाई पर रोक लगा दी है। हाईकोर्ट ने कहा है कि जब तक पुलिस रिपोर्ट नहीं आ जाती, तब तक चीफ प्रॉक्टर की गिरफ्तारी उचित नहीं है। इससे विश्वविद्वालय के हालात और खराब होंगे। वहीं, हाईकोर्ट ने बीएचयू के हालात पर चिंता जाहिर करते हुये तल्ख टिप्पणी भी कि और कहा कि अगर इसी तरह से अराजकता के हालात बने रहे तो कैंपस को भी बंद करना पड़ेगा। गौरतलब है कि बीएचयू में एमसीए छात्र गौरव सिंह की तीन अप्रैल को बिड़ला हॉस्टल में हत्या कर दी गई थी। इस वारदात के बाद पूरे विश्वविद्वालय में बवाल शुरू हो गया और कैंपस में अराजकता फैली हुई है।  गौरव सिंह की हत्या में पिता ने पांच नामजद और दो-तीन अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था। नामजद आरोपियों में बीएचयू की चीफ प्रॉक्टर प्रफेसर रायना सिंह का भी नाम शामिल है, जिसके कारण उनके उपर गिरफ्तरी की तलवार लटक रही थी। गिरफ्तारी से बचने के लिए रायना सिंह ने इलाहाबाद हाईकोर्ट में याचिका दाखिल की थी। जिस पर सुनवाई करते हुये हाईकोर्ट ने उनकी गिरफ्तारी पर रोक लगा दी है। साथ ही पुलिस जांच तेजी से पूरी करने को कहा है।
क्या है मामला
काशी हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) वाराणसी में तीन अप्रैल को बिड़ला हॉस्टल में एमसीए के छात्र गौरव सिंह की हत्या कर दी गई थी। छात्र की हत्या के विरोध में बीएचयू कैंपस सुलग उठा और जगह जगह छात्रों ने बवाल करना शुरू कर दिया। भारी हंगामे और तनाव के बीच पुलिस प्रशासन ने मामला संभाला और पुलिस जांच शुरू हुई तो गौरव सिंह की हत्या में छात्र वर्चस्व का मामला प्रारंभिक तौर पर सामने आया है। इस मामले में गौरव की पिता की तहरीर पर चीफ प्राक्टर समेत 5 लोगों के विरूद्ध नामजद व 3 अज्ञात के विरूद्ध मुकदमा दर्ज कराया गया हैं। मामले में पुलिस जांच कर कर रही है।
हाईकोर्ट ने क्या कहा
छात्र हत्या के मामले में तनाव बढा और प्रॉक्टर की गिरफ्तारी का दबाव बनने लगा तो बीएचयू की चीफ प्राक्टर रायना सिंह ने खुद के खिलाफ दर्ज किये गये मुकदमे को रद्द करने व गिरफ्तारी पर रोक लगाने के लिये इलाहाबाद हाईकोर्ट की शरण ली। यहां दाखिल की गयी याचिका पर न्यायमूर्ति पंकज नकवी तथा न्यायमूर्ति उमेश कुमार की खंडपीठ ने सुनवाई शुरू की तो याची की ओर से दलील दी गयी कि विश्वविद्यालय की व्यवस्था दुरुस्त बनाने में कडाई करने के कारण उनके विरूद्ध षड़यंत्र के तहत यह मुकदमा दर्ज किया गया है, जो आधारहीन है। ऐसे में इसे रद्द किया जाना चाहिये। याचिका पर दलीलों को सुनने के बाद हाईकोर्ट ने कहा कि जिस तहर के हालात विश्वविद्वालयम में बन रहे हैं, ऐसे में तो कैंपस ही बंद करना पडेगा। यदि बीएचयू के ही प्राध्यापकों और जिम्मेदार अधिकारियों के खिलाफ इस तरह की कार्रवाई की जाएगी तो इससे कैंपस का माहौल कैसे सुधरेगा। इससे तो माहौल और ज्यादा खराब होगा। ऐसे में याची की गिरफ्तारी किसी भी दशा में उचित नहीं हैं। हालांकि हाईकोर्ट ने मुकदमा रद्द करने से इन्कार कर दिया और मुकदमे की विवेचना जारी रखने व जांच तेजी से पूरी कर रिपोर्ट देने को कहा है। पुलिस रिपोर्ट के आधार पर ही प्रॉक्टर के विरूद्ध कार्रवाई का निर्धारण किया जा सकेगा।
Nokia [CPS] IN

Written by Amarish Shukla

बहुबली अतीक के फूलपुर से चुनाव लडने की उम्मीदें खत्म, गुजरात जेल में ट्रांसफर

SSC: मल्टी टास्किंग स्टॉफ के 10000 पदों के बंपर भर्ती शुरू, यहां करें आवेदन