in , ,

अनुच्छेद 370 हटाने के ऐतिहासिक फैसले से श्यामाप्रसाद मुखर्जी का बलिदान सार्थक हुआ : राम नाईक

Shyamaprasad Mukherjee sacrifice was meaningful in the historical decision to remove Article 370 : Ram Naik
Shyamaprasad Mukherjee sacrifice was meaningful in the historical decision to remove Article 370 : Ram Naik

मुंबई/लखनऊ : उत्तर प्रदेश के पूर्व राज्यपाल व ज्येष्ठ भाजपा नेता राम नाईक ने कहा की अनुच्छेद 370 हटाने के ऐतिहासिक फैसले से श्यामाप्रसाद मुखर्जी का बलिदान सार्थक हुआ. Shyamaprasad Mukherjee sacrifice was meaningful in the historical decision to remove Article 370 : Ram Naik

अनुच्छेद 370 हटाने के ऐतिहासिक फैसले के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकार का अभिनंदन! श्यामाप्रसाद मुखर्जी का बलिदान 66 वर्षों बाद अब सार्थक बना ऐसे भावोद्गार पूर्व राज्यपाल व ज्येष्ठ भाजपा नेता राम नाईक ने कहे.

Nokia [CPS] IN
Shyamaprasad Mukherjee sacrifice was meaningful in the historical decision to remove Article 370 : Ram Naik
Shyamaprasad Mukherjee sacrifice was meaningful in the historical decision to remove Article 370 : Ram Naik

कश्मीर को भारत से अलग रखने वाले आतंकवाद को बढ़ावा देने वाले अनुच्छेद 370 को हटाने की मांग के लिए सबसे पहले भारतीय जनसंघ के संस्थापक डॉ श्यामाप्रसाद मुखर्जी ने सीधे कश्मीर जाकर 1953 में आंदोलन छेड़ा था. इसी आंदोलन में उनका अंत हुआ था.

आज उसी विचारधारा को मानने वाले भारतीय जनता पार्टी की सरकार ने संसद में अनुच्छेद 370 को हटाने का ऐतिहासिक निर्णय लिया है.

Shyamaprasad Mukherjee sacrifice was meaningful in the historical decision to remove Article 370 : Ram Naik

स्वतंत्रता के पश्चात लोह्पुरुष सरदार वल्लभभाई पटेल ने जिस तरह नीडरता से बड़े फैसले लेकर उन पर अंमल किया उसी नीडरता से आज संसद में गृह मंत्री अमित शाह ने अनुच्छेद 370 हटाने का निर्णय किया है. आज सही मायने में कश्मीर स्वतंत्र हुआ है.

Nokia [CPS] IN

ऐसी प्रतिक्रिया श्री नाईक ने दी.

Nokia [CPS] IN

Written by National TV

up bjp swatantra dev singh in c level membership program at agra

भाजपा कार्यकर्ता पराक्रम की पराकाष्ठा को पार करने वाले है – स्वतंत्र देव सिंह

adv vijay kumar pandey attack on law and order lko aft bar

कानून का शासन निर्बल और असहाय के लिए मृग मारीचिका : विजय पाण्डेय