in ,

शिवनादर यूनिवर्सिटी अंडरग्रेजुएट प्रोग्राम के लिए आवेदन की अंतिम तिथि 4 जून

Shiv Nadar University Invites Applications for its Undergraduate Programs for 2019 dr rajiv kumar singh
Shiv Nadar University Invites Applications for its Undergraduate Programs for 2019 dr rajiv kumar singh

लखनऊ : राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में शिव नादर यूनिवर्सिटी निजी क्षेत्र में भारत के अग्रणी विस्तृत, शोध-केंद्रित, बहुविषयक विश्वविद्यालयों में से एक है। इस विश्वविद्यालय ने आज 2019 के एकेडेमिक सत्र के लिए सभी अंडरग्रेजुएट कार्यक्रमों के लिए प्रवेश की घोषणा की। Shiv Nadar University Invites Applications for its Undergraduate Programs for 2019 dr rajiv kumar singh

इच्छुक विद्यार्थी उपलब्ध काॅमन एडमिशन फाॅर्म भरकर जमा करें। आवेदन की अंतिम तिथि 4 जून 2019 है। विद्यार्थियों को प्रवेश उनके 12 वीं कक्षा के परिणामों, एसएनयूसैट और एकेडेमिक प्रोफिशियंसी टेस्ट (एपीटी) के आधार पर दिया जाएगा। प्रवेश परीक्षाओं (एसएनयूसैट और एपीटी) में बैठने की अंतिम तिथि 9 जून, 2019 है।

शहर में एक प्रेस इवेंट में, डाॅ. राजीव कुमार सिंह, असिस्टेंट डीन ऑफ अंडरग्रेजुएट स्टडीज, शिव नादर यूनिवर्सिटी ने कहा, ‘‘हमारा निरंतर प्रयास है कि हम विद्यार्थियों को उनके चयनित विषय में संपूर्ण ज्ञान दें और संबंधित संकायों की विस्तृत जानकारी भी।

Shiv Nadar University Invites Applications for its Undergraduate Programs for 2019 dr rajiv kumar singh
Shiv Nadar University Invites Applications for its Undergraduate Programs for 2019 dr rajiv kumar singh

21 वीं सदी में पृथक रूप से पढ़ाए गए विषय विद्यार्थी की रचनात्मक स्वतंत्रता, क्रिटिकल थिंकिंग और प्राॅब्लम साॅल्विंग का कौशल खत्म कर देते हैं। एक शोध आधारित विश्वविद्यालय के रूप में हम ‘लर्निंग बाय डूइंग’ और अपने विद्यार्थियों को महत्वपूर्ण कौशल प्रदान करने पर बल देते हैं, जो कभी भी पुराना नहीं होता।’’

डाॅ. राजीव कुमार सिंह ने कहा, हाल ही में जारी किए गए नेशनल इंस्टीट्यूट रैंकिंग फ्रेमवर्क (एनआईआरएफ), जिसका प्रकाशन भारत सरकार ने किया, में शिव नादर यूनिवर्सिटी को ‘विश्वविद्यालय’ श्रेणी में 52 वां पायदान मिला। यह विश्वविद्यालय एमएचआरडी द्वारा नियुक्त विशेषज्ञ समिति द्वारा चयनित किया गया और इसे भारत सरकार ने ‘इंस्टीट्यूशन आॅफ एमिनेंस’ (उत्कृष्टता के संस्थान) का दर्जा दिया।

शिव नादर फाउंडेशन द्वारा सहयोग प्राप्त, शिव नादर यूनिवर्सिटी एनसीआर प्रतिभाशाली विद्यार्थियों को उनकी आर्थिक पृष्ठभूमि से पृथक एक समान अवसर प्रदान करने में यकीन रखती है। इसलिए यह यूनिवर्सिटी सभी विद्यार्थियों को उनके कक्षा 12वीं के अंकों के आधार पर पहले साल स्काॅलरशिप प्रदान करती है, जो हर साल उनके सीजीपीए स्कोर के आधार पर जारी रहती है। इसके अलावा, यह यूनिवर्सिटी विशेष स्काॅलरशिप भी देती है, जो निम्नलिखित है:

गिफ्टेड स्टूडेंट स्काॅलरशिप: यह स्काॅलरशिन हर बोर्ड में कक्षा 12 में सर्वोच्च 10 अंकधारकों, जेईई (एडवांस्ड) में सर्वोच्च 500 अंकधारकों, इंस्पायर फैलो, सैट परफेक्ट अंकधारकों और किशोर वैज्ञानिक प्रोत्साहन योजना (केवीपीवाई) फैलोशिप धारकों को दी जाती है। चयनित विद्यार्थियों को संपूर्ण प्रोग्राम में कम से कम 6.50 की सीजीपीए बनाकर रखने पर एडमिशन शुल्क, ट्यूशन फीस, होस्टल, मेस एवं लाॅन्ड्री शुल्क में 100 प्रतिशत छूट मिलती है।

Shiv Nadar University Invites Applications for its Undergraduate Programs for 2019 dr rajiv kumar singh
Shiv Nadar University Invites Applications for its Undergraduate Programs for 2019 dr rajiv kumar singh

डाॅ. राजीव कुमार सिंह ने कहा, रूरल स्टूडेंट स्काॅलरशिप: यह स्काॅलरशिप ग्रामीण और सुविधाओं से वंचित पृष्ठभूमि के विलक्षण प्रतिभा वाले विद्यार्थियों को दी जाती है। यह योजना एडमिशन शुल्क, ट्यूशन फीस, होस्टल, मेस और लाॅन्ड्री शुल्क में 100 प्रतिशत छूट देती है।

शिव नादर यूनिवर्सिटी एनसीआर ने विशेष कोर्सों के लिए विदेशों की अग्रणी यूनिवर्सिटीज़ जैसे डेकिन यूनिवर्सिटी, यूनिवर्सिटी आॅफ कैलिफोर्निया बर्कले, यूनिवर्सिटी आॅफ मिशिगन, यूनिवर्सिटी आॅफ क्वींसलैंड के साथ साझेदारी की है।

इसलिए विद्यार्थी एक सेमस्टर या एक पूरा एकेडेमिक साल अंतर्राष्ट्रीय यूनिवर्सिटी में बिता सकते हैं और उन्हें लर्निंग का व्यवहारिक व अंर्तराष्ट्रीय अनुभव प्राप्त हो सकता है। यह यूनिवर्सिटी इस साल 13 नए अंतर्राष्ट्रीय संस्थानों के साथ अतिरिक्त साझेदारी कर रही है, जिनमें द न्यूयार्क यूनिवर्सिटी, जर्मनी की हेडेलबर्ग यूनिवर्सिटी, स्वीडन की गोटेनबर्ग यूनिवर्सिटी आदि शामिल हैं।

2019 में यूनिवर्सिटी से 500 से ज्यादा विद्यार्थी ग्रेजुएट होंगे और इनमें से 91 प्रतिशत विद्यार्थी अग्रणी संगठनों में पहले ही प्लेस किए जा चुके हैं। इस संगठनों में एडोब सिस्टम्स, कैपजेमिनी, काॅग्निजैंट, सिस्को, एचसीएल, जे़राॅक्स, राॅयल एनफील्ड, गोल्डमैन सैश्स आदि शामिल हैं। इस साल कैंपस प्लेसमेंट के दौरान दिया जाने वाला सर्वाधिक वेतन का पैकेज 31.05 रु. प्रतिवर्ष था। शेष 9 प्रतिशत विद्यार्थियों ने मशहूर अंर्तराष्ट्रीय यूनिवर्सिटीज़ में अपनी उच्च शिक्षा जारी रखने का विकल्प चुना।

Shiv Nadar University Invites Applications for its Undergraduate Programs for 2019 dr rajiv kumar singh
Shiv Nadar University Invites Applications for its Undergraduate Programs for 2019 dr rajiv kumar singh

शिव नादर यूनिवर्सिटी, नेशनल कैपिटल रीजन (एनसीआर) के बारे में
शिव नादर फाउन्डेशन के तहत् नेशनल कैपिटल रीजन में कार्यरत शिव नादर यूनिवर्सिटी विभिन्न क्षेत्रों/विषयों में पाठ्यक्रमों की पेशकश करने वाली छात्र-केंद्रित यूनीवर्सटी है जो अंडरग्रेजुएट, पोस्टग्रेजुएट तथा डाॅक्टरल स्तर के प्रोग्रामों की पेशकश करती है।

एसएनयू के मल्टी-डिसीप्लीनरी प्रोग्राम छात्रों को मानविकी तथा समाज विज्ञान, प्राकृतिक विज्ञान, टैक्नोलाॅजी और इंजीनियरिंग के अलावा कला एवं संचार तथा प्रबंधन में मजबूत बुनियाद का लाभ दिलाने के साथ उन्हें उनके मनपसंद विषय में पारंगत भी बनाते हैं। एसएनयू के अंडरग्रेजुएट पाठ्यक्रमों को विश्व स्तरीय फैकल्टी द्वारा संचालित किया जाता है और ये छात्रों को 21वीं सदी में कॅरियर में सफलता प्राप्त करने के लिए तैयार करने के लिहाज से तैयार किए गए हैं।

भारत के राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में 286 एकड़ क्षेत्रफल में स्थापित शिव नादर यूनिवर्सिटी निजी परोपकारी संस्थान है जिसकी स्थापना 2011 में उत्तर प्रदेश शासन द्वारा एक अधिनियम के तहत् की गई थी। इस यूनिवर्सिटी को तीसरे फिक्की हायर एजुकेशन एक्सीलेंस अवाड्र्स में ‘इन एक्ज़िस्टैंस फाॅर लेस दैन 10 ईयर्स’ की श्रेणी में ‘यूनिवर्सिटी ऑफ द ईयर’ पुरस्कार से नवाजा गया है।

शिव नादर फाउन्डेशन के बारे मेें
शिव नादर फाउन्डेशन की स्थापना एचसीएल के संस्थापक शिव नादर के द्वारा की गई- जो 8‐3 बिलियन की अग्रणी प्रोद्यौगिकी एवं हेल्थकेयर उद्यम है। शिक्षा एवं संस्कृति के क्षेत्र में संस्थानों की स्थापना के द्वारा राष्ट्रीय विकास और सामाजिक रूपान्तरण की प्रक्रिया में योगदान देना फाउन्डेशन का मिशन है। फाउन्डेशन परिवर्तनकारी शिक्षा के माध्यम से सामाजिक अंतराल को दूर करके लोगों के सशक्तीकरण के द्वारा समकक्ष एवं योग्यता आधारित समाज के निर्माण हेतू प्रबिद्ध है।

शिव नादर फाउन्डेशन ने 1996 में एसएसएन इन्सटीट्यूशन्स की स्थापना की जिसमें एसएसएन काॅलेज आॅफ इंजीनियरिंग (जो पहले से भारत में उच्च रैंकिंग का निजी इंजीनियरिंग काॅलेज है), चेन्नई, तमिलनाडू शामिल है। शिव नादर फाउन्डेशन ने प्रतिभाशाली ग्रामीण बच्चों के लिए उत्तरप्रदेश के बुलंदशहर एवं सीतापुर में रिहायशी लीडरशिप अकादमी विद्याज्ञान की स्थापना भी की है।

इसके अलावा फाउन्डेशन राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के ग्रेटर नोएडा में सशक्त अनुसंधान उन्मुख अन्तरराष्ट्रीय विश्वविद्यालय, शिव नादर युनिवर्सिटी तथा शिव नादर स्कूल का संचालन भी करता है। फाउन्डेशन ने भारत के सबसे बड़े निजी लोकोपकारी संग्रहालय किरण नादर म्युज़ियम आॅफ आर्ट की स्थापना भी की है।

Written by National TV

lok sabha election congress pramod tiwari attack on pm modi bjp

कांग्रेस के नेतृत्व में यूपीए-3 की सरकार का गठन केन्द्र में होगा : प्रमोद तिवारी

lok sabha election bjp mahendra nath pandey campaign in chanduali

छह चरणों में भाजपा के आसपास भी नहीं है गठबंधन – डा0 महेंद्र नाथ पाण्डेय