in

रिटायर्ड आइएएस डॉ. प्रभात कुमार बनेंगे उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष, राज्यपाल ने दी मंजूरी

इलाहाबाद / प्रयागराज : उत्तर प्रदेश के तेज तर्रार आइएएस अफसर रहे डॉ.प्रभात कुमार सेवानिवृति के बाद एक बार फिर वापसी कर रहे हैं। 1985 बैच के आइएएस  प्रभात कुमार  सूबे की सबसे हॉट सीट कही जाने वाली लोकसेवा आयोग के अध्यक्ष की कुर्सी संभालेंगे । स्वच्छ और भ्रष्टाचार विरोधी छवि के चलते ही सरकार ने उन्हे इस बड़ी जिम्मेदारी को देने का ऐलान किया है। सहकारिता समेत कई विभागों में भ्रष्टाचार की जांच कर भ्रष्टाचारियों को सजा दिला चुके प्रभात कुमार का का कार्यकाल 62 वर्ष की उम्र तक रहेगा और आयोग में भी उनसे उनकी छवि के अनुरूप ही काम करने की उम्मीद जताई जा रही है। वह मौजूदा अध्यक्ष अनिरूद्ध सिंह यादव की जगह लेंगे, जिनका कार्यकाल 30 जून को खत्म हो रहा है।

राज्यपाल ने दी मंजूरी
प्रभात कुमार के नाम पर सीएम योगी आदित्यनाथ ने संस्तुति प्रदान कर फाइल अनुमोदान के लिये राज्यपाल के पास भेजा था, जिसे राज्यपाल राम नाईक ने मंजूरी दे दी है। आयोग की मटियामेट हो चुकी साख को बचाने और प्रतियोगियों में आयोग की गरिमा को वापस लाने के लिये न सिर्फ प्रभात कुमार पर बड़ी जिम्मेदारी होगी, बल्कि योगी सरकार को भी इसी बहाने युवाओं की अग्नि परीक्षा से गुजरना होगा। संभावना है कि 1 जुलाई को प्रभात कुमार कार्यभार ग्रहण करेंगे। बता दें कि प्रभात कुमार  30 अप्रैल को कृषि उत्पादन आयुक्त के साथ ही अपर मुख्य सचिव बेसिक शिक्षा, यमुना एक्सप्रेसवे प्राधिकरण के अध्यक्ष पद से सेवानिवृत्त हुए हैं।

Nokia [CPS] IN

कौन हैं प्रभात कुमार
डा. प्रभात कुमार सिविल सेवा में आने से पहले चिकित्सक थे। 1985 बैच के आइएएस अधिकारी प्रभात कुमार बीते 30 अप्रैल को  कृषि उत्पादन आयुक्त तथा अपर मुख्य सचिव बेसिक शिक्षा के पद रिटायर हो चुके हैं। प्रभात कुमार उस वक्त खूब चर्चा में आये थे जब इन्होंने मेरठ का मंडल कमिश्नर रहते हुये कई घोटालेबाजों को जेल भेजा था।  इन्होंने ही प्रदेश में अक्षम कर्मियों को अनिवार्य सेवानिवृत्ति देने की शुरुआत की थी और मेरठ में इनके इस एक्शन को खूब पसंद किया गया था। इसी एक्शन को बाद में सरकार ने प्रदेश भर में लागू कर दिया, जो इस समय पूरी तत्परता से चल रहा है। आईएएस प्रभात कुमार को हिंडन नदी के पुनरुद्धार के तौर पर भी याद किया जाता है, जिन्होंने विशेष अभियान चलाकर लंबे समय तक इसके लिये काम किया है। फिलहाल अब वह अपनी नयी पारी लोकसेवा आयोग के अध्यक्ष के तौर पर शुरू करने जा रहे हैं और लगभग  22 माह तक उनका कार्यकाल यहां होगा।

होंगी कई चुनौतियां
उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष के तौर पर  सेवानिवृत्त आईएएस अफसर प्रभात कुमार के सामने कयी बड़ी चुनौतियां होंगी। जिनमें आयोग की परीक्षाओं की सीबीआई और एसटीएफ जांच के साथ विवादित परीक्षओं नें आयोग की साख को बट्टा लगा चुकी हैं। ऐसे में नये अध्यक्ष को इन विवादों को निपटाने के साथ आने वाली परीक्षाओं की शुचिता को भी सुनिश्चित करना होगा। पीसीएस.2016, पीसीएस.2017, आरओ 2016, पीसीएस.जे 2018 , एपीएस.2010 के विवाद को सुलझा कर एलटी ग्रेड परीक्षा में परीक्षा नियंत्रक अंजू कटियार को जेल जाने वाले मामले को भी हलाभला करना होगा।  परीक्षाओं का समय से आयोजन कराना और समय पर रिजल्ट घोषित करने के साथ पारदर्शिता बनाना व युवाओं का भरोसा फिर से आयोग पर लौटाकर आयोग की गरमी की वापसी बड़ी चुनौती होगी।

Nokia [CPS] IN

Written by Amarish Shukla

इलाहाबाद यूनिवर्सिटी में फिर शुरू हुआ बवाल, दर्जनों छात्र नेता गिरफ्तार, कर रहे हैं छात्र परिषद का विरोध

gangster wife created a plot to murder haryana congress leader Vikas Chaudhary, 2 arrested

खुलासा; गैंगस्टर की पत्नी ने रची थी कांग्रेस नेता विकास चौधरी की हत्या की साजिश, 2 गिरफ्तार