in

मुलायम सिंह के करीबी और मिनी मुख्यमंत्री कहे जाने वाले सपा के पूर्व मंत्री पारसनाथ यादव के विरूद्ध गैर जमानतीय वारंट जारी

इलाहाबाद / प्रयागराज  : मुलायम सिंह के बेहद ही करीबी व समाजवादी पार्टी के संस्थापक सदस्य रहे पूर्व मंत्री पारसनाथ यादव की मुश्किल फिर से बढ़ गयी है। भयंकर बीमारी से जूझ रहे पारस नाथ के विरूद्ध प्रयागराज की सांसद विधायक स्पेशल कोर्ट ने गैर जमानतीय वारंट जारी किया है। उनके विरूद्ध दो मामले लंबित चल रहे थे। जिसमें वारंट जारी होने के बाद भी उनके हाजिर ना होने पर गैर जमानतीय वारंट जारी किया गया है। गौरतलब है कि इस समय पारस नाथ यादव लंबी बीमार से जूझ रहे हैं और उनका इलाज इस समय मुम्बई कोकिलाबेन अस्पताल में चल रहा है। जहां उनकी हालत में सुधार बताया जा रहा है। फिलहाल पारस नाथ की ओर से कोई माफी नामा या हाजिर न होने का कारण कोर्ट को नहीं बताया गया है। जिससे नाराज कोर्ट ने गैर जामनतीय वारंट जारी किया है।
क्या है मामला
सपा के कद्दावर नेता पारस नाथ यादव के विरूद्ध 2009 में दो अलग अलग मामले दर्ज हुये थे। इनमे से पहला मामला  11 सितंबर 2009 को जौनपुर के थाना लाइन बाजार में दर्ज हुआ था। इस मुकदमें में पारस पर आरोप था कि उन्होंने अपने समर्थकों संग जमकर हंगामा काटा था और शासन विरोधी लगाने के बीच एडीएम सिटी की गाड़ी में तोडफोड की थी। गौरतलब है कि जन समस्याओं को लेकर परास नाथ की अगुवाई में प्रदर्शन हुआ था। वहीं, दूसरा मामला जौनपुर के बदलापुर थाने में 14 अप्रैल 2009 को दर्ज हुआ था। इस मुकदमे में पारस नाथ पर आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन करने की रिपोर्ट दर्ज हुई थी। पारस पर आरोप था कि इन्होंने अपने व पार्टी के नाम पर स्टीकर और हैंडबिल बांटे, जिस पर मुद्रक और प्रशासक का नाम नहीं था। जबकि ऐसा करना आवश्यक था। यह दोनों मामले पहले जौनपुर में चल रहे थे। इसकी पत्रवली अब प्रयागराज की स्पेशल कोर्ट में आयी हुई है। जिस पर स्पेशल जज पवन कुमार तिवारी सुनवाई कर रहे हैं।
बीमारी से जूझ रहे हैं पारसनाथ
70 वर्षीय पारस नाथ यादव मूलरूप से जौनपुर के रहने वाले हैं और मुलायम सिहं के शुरूआती दिनों में संघर्ष के साथी रहे और समाजवादी पार्टी के संस्थापक सदस्य रहे हैं। जनता के बीच जमीन से जुड़े पारस नाथ 7 बार विधायक चुने गये हैं। जबकि 1998 व 2004 में दो बार लोकसभा सदस्य भी चुने गये।  मुलायम सिंह की सरकार में इन्हे मिनी मुख्यमंत्री कहकर पुकारा जाता था। पारसनाथ यादव इस समय बीमार हैं। उन्हे पेशाब के रास्ते मे समस्या के कारण पीजीआई लखनउ में भर्ती कराया गया था। लेकिन स्वास्थ्य सुधार न होने पर उन्हे  मुम्बई के कोकिलाबेन अस्पताल मे 11 जून को भर्ती कराया गया है। जहां उनके स्वास्थ्य मे तेजी से सुधार होना बताया जा रहा है।
Nokia [CPS] IN

Written by Amarish Shukla

मिठाई के डिब्बे में कूड़ा लेकर नगर निगम पहुंचे कांग्रेसी, नगर आयुक्त पर फेंकने से पहले पुलिस ने छीना, झड़प

इलाहाबाद स्टेट यूनिवर्सिटी की कुलपति बनी प्रो. संगीता श्रीवास्तव, जानिये इनके बारे में