in ,

उत्तर भारत में लंग और हार्ट डिजीज से निजात दिलाने को तैयार नारायणा हेल्थ

Narayana Health ready to get rid of lung and heart disease in North India
Narayana Health ready to get rid of lung and heart disease in North India

लखनऊ : उत्तर भारत में लंग और हार्ट डिजीज से निजात दिलाने को नारायणा हेल्थ तैयार हैं। लखनऊ में कार्डियक साइंसेज और एडवांस्ड पल्मोनरी केयर के क्षेत्र में नवीनताओं और आधुनिक बदलावों पर एक प्रेस कॉन्फ्रेंस का आयोजन किया। Narayana Health ready to get rid of lung and heart disease in North India

नारायणा हेल्थ ग्रुप के चेयरमैन एवं एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर डॉक्टर देवी प्रसाद शेट्टीकी दूरदर्शिता को आगे लेजाते हुए नारायणा हेल्थ सिटी-बंगलूरु, नारायणा सुपरस्पेशेलिटी अस्पताल- गुरुग्राम और धर्मशिला नारायणा सुपरस्पेशेलिटी अस्पताल, दिल्ली ने मिलकर लखनऊ में कार्डियक साइंसेज और एडवांस्ड पल्मोनरी केयरके क्षेत्र में नवीनताओं और आधुनिक बदलावों परएक प्रेस कॉन्फ्रेंस का आयोजन किया।

Nokia [CPS] IN

एक शोध के अनुसार उत्तर प्रदेश में फेफड़ों से संबंधित बीमारियों में 90 के दशक के मुकाबले 46 फ़ीसदी बढोतरी हुई हैं, इसके अलावा हार्ट डिजीज के कारण होने वाली मृत्यु पूरे देश में चिंता का विषय हैं।

कार्यक्रम में डॉक्टर जूलियस पुन्नेनसीनियर कंसल्टेंट- कार्डियोथोरेसिक सर्जरी, हार्ट एंड लंग ट्रांसप्लांट एंड मैकेनिकल सर्कुलेटरी सपोर्ट डिवाइसेज़, नारायणा हेल्थ सिटी,बंगलूरु, डॉक्टर बाशा जे खानसीनियर कंसल्टेंट पल्मोनरी/ इंटेंसिव केयर, मेडिकल डायरेक्टर- लंग ट्रांसप्लांट, नारायणा हेल्थ सिटी, बंगलूरू और डॉक्टर रचित सक्सेना,सीनियर कंसल्टेंट, कार्डियक सर्जन नारायणा सुपरस्पेशेलिटी अस्पताल, गुरुग्राम ह्रदय एवं फेफड़ों संबंधी बीमारियों और उनसे निजात पाने के तरीकों पर चर्चा करने के लिए मौजूद थे।

Narayana Health ready to get rid of lung and heart disease in North India
Narayana Health ready to get rid of lung and heart disease in North India

कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य इन बीमारियों में उन गंभीर लक्षणों औरइलाज के बारे में जागरूकता फैलाना था जिनके बारे में आम धारणा है कि इस स्थिति में कोई इलाज नहीं हो सकता।

आज के बढ़ते वायु प्रदूषण और बढती उम्र की जनसँख्या के कारण कार्डियो- पल्मोनोरी बीमारियों में इजाफा हुआ है।नारायणा हेल्थ के डॉक्टरों ने हार्ट और रेस्पिरेटरी फेलियर और ट्रांसप्लांट के विकल्प के क्षेत्र में हाल में हो रहे आधुनिक बदलावों पर यह संवादमूलक चर्चा की। साथ ही टीम ने डायग्नोज़ और सर्जिकल दक्षता को लेकर सीटीईपीएच के महत्व पर भी अपने अनुभव साझा किए।

नारायणा हेल्थकेयर देश के उत्तरी क्षेत्र में भी उच्चस्तरीय सर्विसेस, अनुभवी डॉक्टर्स के साथ धर्मशिला नारायणा सुपरस्पेशेलिटी अस्पताल- नई दिल्ली, नारायणा सुपरस्पेशेलिटी अस्पताल- गुरुग्राम और श्री माता वैष्णो देवी नारायणा सुपरस्पेशेलिटी अस्पताल- कटरा, जम्मूमें अपनी सेवाएं दे रहा है।

डॉक्टर जुलियस पुन्नेन, सीनियर कंसल्टेंट- कार्डियोथोरेसिक सर्जरी, हार्ट एंड लंग ट्रांसप्लांट एंड मेडिकल सरकुलेटरी सपोर्ट डिवाइसेज, नारायणा हेल्थ सिटी, बंगलूरूने कहा कि, “उत्तर प्रदेश भौगोलिक रूप से देश के पांच सबसे बड़े राज्यों में से एक है, इसलिये यहाँ देश की जनसँख्या का एक बड़ा हिस्सा है।

ऐसे में पल्मोनरी बीमारियों की बढती संख्या चिंता का विषय है। इसके साथ ही परिदृश्य को देखते हुए मरीजों को बेहतर गुणवत्ता और सेवाएं उपलब्ध कराने के नज़रिए से भी एडवांस मेडिकल एजुकेशनल प्रोग्राम्स को आयोजित किये जाने की भी बहुत आवश्यकता है।“

डॉक्टर बाशा जे खान, सीनियर कंसल्टेंट पल्मोनरी/ इंटेसिव केयर, मेडिकल डायरेक्टर- लंग ट्रांसप्लांट, नारायणा हेल्थ सिटी, बंगलूरुने कहा कि, “परिदृश्य के अनुसार पिछले लगभग 3 दशक में उत्तर प्रदेश में बढ़ते प्रदूषण के कारण पल्मोनरी बीमारियां बहुत संख्या में बढ़ी हैं।साथ ही शहरी इलाकों में अस्वस्थ जीवनशैली, खान पान की अनियमित आदतें मुख्य घटक हैं। ज़ाहिर तौर पर हमें स्वास्थय से जुडी अच्छी गुणवत्ता और बेहतर सेवाओं की ज़रूरत है।”

डॉक्टर रचित सक्सेना, कार्डियक सर्जन नारायणा सुपरस्पेशेलिटी अस्पताल, गुरुग्रामने कहा कि, “हम अत्याधुनिक तकनीक के साथ ह्रदय संबंधी बीमारियों से लड़ने के लिए एकदम तैयार हैं। हमने नारायणा सुपरस्पेशेलिटी अस्पताल, गुरुग्राम में एलवीएडी (LVAD) का सफलतापूर्वक इम्प्लांट लगाया था।

एलवीएडी दरअसल बैटरी से चलने वाला मकेनिकल पंप है जिसे मरीज़ की छाती में लगाया जाता है, यह कमज़ोर दिल को रक्त पंप करने में मदद करता है। एलवीएडी को इम्प्लांट करने की प्रक्रिया जटिल है जिसके लिए तकनीकी और तार्किक कौशल की ज़रूरत होती है जो हमारे केन्द्रों में मौजूद है।

ज़रूरत इस बात की है कि मरीजों में इस बात की जानकारी हो कि अब ऐसी अत्याधुनिक तकनीक और सुविधाएँ मौजूद हैं और इम्प्लान्ट्स के सफल होने की दर भी तेज़ी से बढ़ रही है जिससे मरीज़ सफल इलाज की उम्मीद कर सकते हैं। निश्चित ही यह इलाज महंगा है लेकिन नारायणा हेल्थ में मरीज़ को अधिक से अधिक मदद देने की कोशिश रहती है।“

Narayana Health ready to get rid of lung and heart disease in North India

राज्य में इन सभी चिंताओं को ध्यान में रखते हुए कल एडवांस मेडिकल एजुकेशनल प्रोग्राम आयोजित किया जायेगा, जिसका उद्देश्य बेहतर स्वस्थ्य सुविधाओंको प्रोत्साहित करना है, इसमेंडॉक्टर जूलियस पुन्नेनऔर डॉक्टर बाशा जे खान अपने अनुभव व विचार प्रस्तुत करेंगे।

नारायणा हेल्थ अपनी नैतिक ज़िम्मेदारी को बखूबी समझता है और लगातार जागरूकता फ़ैलाने के प्रोग्राम आयोजित करता रहा है।डॉक्टर जूलियस पुन्नेन ‘एडवांस थेरेपी फॉर हार्ट फेलियर जिसमें हार्ट ट्रांसप्लांट और मैकेनिकल सर्कुलेटरी सपोर्ट डिवाइस’पर औरडॉक्टर बाशा जे खान ‘लंग ट्रांसप्लांट- करंट इंडियन सिनेरियो, क्रोनिक थ्रोम्बोएम्बोलिक पल्मोनरी हाइपरटेंशन’ पर अपनी बात रखेंगे।

नारायणा हेल्थ के बारे में

नारायणा हेल्थ का बंगलूरु में मुख्यालय है जिसकी पूरे भारत में अस्पतालों की शाखाएं हैं, जिनकी मुख्य रूप से कर्नाटक के दक्षिणी और देश के पूर्वी राज्यों में मज़बूत उपस्थिति है, साथ ही देश के उत्तरी, पश्चिमी और मध्य इलाकों में भी इसकी उपस्थिति बढ़ रही है।

हमने बंगलूरु में तकरीबन 225 ऑपरेशनल बेड्स के साथ सबसे पहली उपस्थति दर्ज की थी, उसके बाद इसका विकास पूरे देश में 23 अस्पताल, 7 हार्ट सेंटर्स, 19 प्राइमरी केयर सुविधाएँ तक हुआ, साथ ही अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर केमैन आइलैंड में भी असपताल भी खोला।ग्रीनफ़ील्ड प्रोजेक्ट के साथ कोलैबोरेशन से इस वक़्त हमारे ग्रुप के पास 6000 से अधिक ऑपरेशनल बेड्स हैं।

Nokia [CPS] IN

हमारा मानना है कि“नारायणा हेल्थ” ब्रांड देश की अधिकतर जनसँख्या के वित्तीय हालात को ध्यान में रखते हुए उच्च क्वालिटी, अनुभवी डॉक्टर्स की सेवाएंदेते हुए एक आदर्श बिज़नस मॉडल के रूप में स्थापित होने के मिशन से मजबूती से जुड़ा है।कुल मिलकर हमारे सेंटर्स कार्डियोलॉजी, कार्डियक सर्जरी, कैंसर के, न्यूरोलॉजी एंड न्यूरोसर्जरी ओर्थोपेडिक्स,नेफ्रोलॉजी और यूरोलॉजी और गैस्ट्रोएंट्रोलॉजी सहित 30 से अधिक स्पेशेलिटीज़ में उच्च स्तरीय सुविधाएँ देते हैं।

Nokia [CPS] IN

Written by National TV

lko DM Kaushal raj sharma chaired the meeting of Agricultural Technical Management Agency governing board

डीएम कौशल राज शर्मा ने कृषि तकनीकी प्रबन्ध अभिकरण गर्वनिंग बोर्ड बैठक की अध्यक्षता की

CMS students take out grand Character Building March, Meritorious students felicitated

सीएमएस छात्रों ने निकाला ‘चरित्र निर्माण मार्च’, मेधावी छात्रों का हुआ सम्मान