in ,

विधायक जवाहर हत्याकांड में 23 साल बाद आया फैसला, करवरिया बंधुओं को आजीवन कारावास सजा, 7.2 लाख का जुर्माना

अमरीश मनीश शुक्ल
इलाहाबाद / प्रयागराज : प्रयागराज के बहुचर्चित सपा विधायक जवाहर पंडित हत्याकांड में आखिरकार 23 बाद जिला अदालत ने अपना फैसला सुनाया और आरोपी करवरिया बंधुओं को आजीवन कारवास की सजा सुनाई है। खचाखच भरी कचहरी में नारेबाजी और जयकारों की गूंज के बीच कोर्ट में जैसे ही जज ने सजा सुनाई, हर तरफ सन्नाटा छा गया। कोर्ट ने आजीवन कारावास के साथ 7 लाख 20 हजार का जुर्माना भी इन पर लगाया हुआ है। गौरतलब है कि इस मामले में 31 अक्टूबर को ही अदालत ने करवरिया बंधुओं को दोषी पाया था और 4 नवंबर को सजा सुनाने का ऐलान किया था। उसी क्रम में आज करवरिया बंधुओं पर अदालत ने अपना फैसला सुनाया। इससे पहले सुबह से ही करवरिया समर्थकों की भारी भीड़ कचहरी में जुटने लगी और कचहरी आने जाने वाले हर रास्ते पर हजारों लोगों ने डेर डाल दिया। हालांकि सुरक्षा व्यवस्था के लिये बडे पैमाने पर पुलिस के साथ पीएसी व आरएफ को लगाया गया था, जिससे शांति व्यवस्था बनी रहे। दोपहर दो बजे के बाद नैनी जेल से कडी सुरक्षा व्यवस्था के बीच जवाहर हत्याकांड के आरोपी पूर्व सांसद कपिल मुनि करवरिया, पूर्व विधायक उदय भान करवरिया, पूर्व विधायक सूरज भान करवरिया व इनके चचेरे भाई रामचंद्र त्रिपाठी को अदालत में पेश किया गया। अदालत पहुंचने से पहले ही समर्थकों का हुजूम खुद को करवरिया बंधुओं के साथ दिखाने के लिये जमकर नारेबाजी के साथ जयकारे लगाता रहा। याद दिला दें कि 13 अगस्त 1996 को पूर्व सपा विधायक जवाहर यादव उर्फ पंडित की सिविल लाइंस इलाके में गोली मारकर की हत्या कर दी गई थी। इस मामले में करवरिया बंधुओं को नामजद किया गया था।

Nokia [CPS] IN

इन धाराओं के तहत हुई सजा
जिला अदालत में चल रही सुनवाई के बाद अदालत ने जिन धाराओं में फैसला सुनाया, उसके अनुसार ही उम्रकैद की सजा के अलावा 7.20 लाख का जुर्माना निर्धारित किया गया है। जिन धाराओं के तहत फैसला आया उनमें धारा 302 प्रथम व बडी धारा थी इसके तहत आरोपियों केा उम्रकैद व 1लाख जुर्माने की सजा सुनाई गयी है। जबकि धारा 307 के तहत 10 वर्ष की सजा व 50 हज़ार का जुर्माना लगाया गया है। इसके अलावा धारा 147 के तहत 2 वर्ष की सजा व 10 हजार का जुर्माना, धारा 148 के तहत 3 वर्ष व 20 हजार का जुर्माना। कुल मिलाकर सभी धाराओं और जुर्माना राशि को संयुक्त रूप से उम्र कैद की सजा व 7.20 लाख जुर्माना तय किया गया है।


Nokia [CPS] IN

23 साल बाद आया फैसला
समाजवादी पार्टी के तत्कालीन विधायक जवाहर यादव उर्फ पंडित की सिविल लाइंस इलाके में 13 अगस्त 1996 को गोली मारकर हत्या कर दी गयी थी। गोलीबारी के दौरान कुल तीन लोगों की मौत हुई थी। जबकि दो राहगीर भी घायल हुये थे। इस मामले में बसपा सांसद कपिल मुनि करवरिया, पूर्व भजपा विधायक उदय भान करवरिया और एमएलसी सूरज भान करवरिया तथा उनके रिश्तेदार रामचंद्र त्रिपाठी को नामजद करते हुये मुकदमा दर्ज कराया गया था। मुकदमा दर्ज होने के बाद जांच शुरू हुई तो पुलिस की जांच से संतुष्ट न होने पर यह मामला सीबीसीआईडी को सौंप दिया गया था। सीबीसीआईडी द्वारा की गई लंबी जांच के बाद मुकदमे का विधिवत ट्रायल 2015 में शुरू हो सका। इसके बाद अभियोजन और बचाव पक्ष ने अपने-अपने पक्ष को साबित करने के लिए साक्ष्यों और गवाहों को पेश किया। बीच में कोर्ट की सख्ती के बाद सभी ने न्यायालय में आत्मसर्पण किया तो सभी को जेल भेज दिया गया और पिछले दो साल से अधिक समय से चारों आरोपी जेल में बंद थे। फिलहाल मुकदमा पिछले 23 साल से चल रहा और अब इसमे फैसला आया है। जिसके तहत इन चारो आरोपियों पर हत्या, विधि विरुद्ध जमाव, सशस्त्र बल प्रयोग सहित तमाम धाराओं में दोष सिद्ध हुआ है और इसी के तहत इन के विरूद्ध सजा सुनाई गयी है।

Nokia [CPS] IN

जेल में क्या करेंगे करवरिया
करवरिया बंधुओं को जेल के अंदर काम भी करना होगा । कपिल मुनि करवरिया, उदयभान करवरिया एवं सूरजभान करवरिया को अशिक्षित कैदियों को शिक्षित करने में लगाएगा। चूंकि यह सभी बहुत अधिक शिक्षित हैं, ऐसे में इन्हें यह ही काम दिया जायेगा। फिलहाल आज इन्हें सिद्धदोष कैदी नंबर, लागू होंगे ड्रेस कोड भी दिया जायेगा और अब यह अपने मनमर्जी का कपड़ा पहनने के बजाय जेल के ड्रेस कोड के तहत कुर्ता पायजामा पहनेंगे। डीआईजी जेल वीआर वर्मा ने बताया कि तीनों भाई उच्चशिक्षित हैं। इसलिए उन्हें अशिक्षित एवं अल्पशिक्षित कैदियों एवं बंदियों को शिक्षित करने में लगाया जाएगा।

Nokia [CPS] IN

Written by Amarish Shukla

Anushka Tiwari of Kanpur became source of inspiration for Divyang

दिव्ययांग जनों की प्रेरणा स्रोत बनी कानपुर की अनुष्का तिवारी

कौन थे विधायक जवाहर पंडित, कैसे जौनपुर के एक गांव से निकलकर इलाहाबाद पर कर रहे थे राज और कैसे हुई थी हत्या, पढिये सबकुछ