Main Menu

एप्पल मैनेजर विवेक की पत्नी कल्पना तिवारी ने कहा पुलिस वालों ने मेरे पति की हत्या की

Share This Now

लखनऊ : राजधानी के गोमती किनारे स्थित भैंसाकुण्ड शमसान घाट में रविवार को एप्पल मैनेजर विवेक तिवारी का अंतिम संस्कार कर दिया गया। इस मौके पर पुलिस-प्रसाशन के आला अधिकारीयों के साथ विवेक के परिजन भी मौजूद रहे और गमगीन माहौल में उन्हें अंतिम विदाई दी गई।

अंतिम संस्कार के बाद निशात गंज स्थित उनके निवास पर शोकाकुल परिवार को सांत्वना देने तथा पत्नी कल्पना तिवारी का पक्ष जानने के लिए नेशनल टीवी की मैनेजिंग एडिटर नलिनी छाबड़ा पहुंची। न्यू हैदराबाद के उनके निवास पर बड़ी संख्या में पुलिस के अधिकारी और सामाजिक कार्यकर्ता एकत्र थे। एडीजी राजीव क्रष्ण और एसएसपी कलानिधि नैथानी ने परिजनों को सांत्वना दी

गौरतलब है कि लखनऊ में शनिवार देर रात ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मियों ने एक एप्पल कंपनी के मैनेजर को गोली मार दी थी। गोली मैनेजर विवेक तिवारी के सीधे सर पर जा लगी, जिसकी वजह से विवेक की मौके पर ही मौत हो गई। पुलिस के मुताबिक 38 वर्षीय विवेक तिवारी अपने पूर्व सहकर्मी सना खान के साथ गाड़ी में सवार थे और इस घटना से पहले उन्होंने गश्त वाली मोटरसाइकिल को टक्कर मार दी। सना खान की शिकायत पर पुलिस ने दो पुलिसवालों पर मुकदम दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया है।

 

विवेक तिवारी की पत्नी कल्पना ने नलिनी छाबड़ा को बताया कि मेरी रात 1:30 बजे विवेक से आखिरी बार बात हुई थी। उन्होंने बताया कि वो सना को घर पर ड्रॉप करके घर आ रहे हैं। जब वो घर नहीं आए तो रात 2 बजे से मैं लगातार दोनों को कॉल कर रही थी, लेकिन किसी ने फोन नहीं उठाया। फिर 3 बजे किसी ने फोन उठाया, उसने बोला की सर और मैम का एक्सीडेंट हो गया है और उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है। फिर में भाग कर अस्पताल पहुंची जहां डॉक्टरों ने बताया कि उनकी मौत हो चुकी है। मैं फिर पुलिस वालों के साथ घटनास्थल पर गई जहां मैने देखी की गाड़ी के शीशे में गोली के निशान थे।

कल्पना ने साफ कहा ये हादसा नहीं ये मर्डर है और पुलिस वालों ने मेरे पति की हत्या की है। यदि उन्हें शक था तो गाड़ी के टायरों पर गोली चला सकते थे सर पर नहीं।

 

शोक में डूबे परिजनों में विवेक के ससुर और साले विष्णु शुक्ला भी मौजूद थे जिनका कहना था कि विवेक कोई आतंकवादी था जो उसे सरेआम गोली मार दी गयी।



Leave a Reply