in

पहल: इलाहाबाद यूनिवर्सिटी में इस बार प्रवेश के साथ 77 रुपये में स्टूडेंट्स का बीमा, अनहोनी पर 5 लाख की मदद

इलाहाबाद / प्रयागराज । केंद्रीय यूनिवर्सिटी इलाहाबद में नये शैक्षणिक सत्र 2019-20 से स्टूडेंट्स को लेकर एक विशेष पहल की जा रही है। इस बार इलाहाबाद यूनिवर्सिटी में एडमीशन लेने वाली सभी स्टूडेंट्स का यूनिवर्सिटी बीमा करायेगी। इसके लिये 77 रूपये प्रति छात्र चार्ज किया जायेगा। प्रवेश के दौरान ही यह चार्ज अतिरिक्त फीस के तौर पर ली जायेगी और छात्र का बीमा किया जायेगा। इस बीमा का लाभ किसी भी दुर्घटना अथवा अनहोनी पर छात्रों को मिलेगा। डीएसडब्ल्यू प्रो. हर्ष कुमार ने बताया कि यूनिवर्सिटी में पढ़ने वाले छात्र-छात्रओं को इस बीमा योजना का सीधा लाभ मिलेगा और अगर कोई अप्रिय घटना घटी यानी छात्र की मौत की स्थिति में इस बीमा योजना के तहत क्षतिपूर्ति सहायता के तहत पांच लाख रुपये दिये जायेंगे। जबकि अपाहिज होने की दशा में ढाई लाख रुपये की मदद बीमा कंपनी की ओर से की जायेगी।
बदलाव लाने की पहल
इलाहाबाद यूनिवर्सिटी में लगातार छात्रों की मौत व दुर्घटनाओं से सबक लेते हुये यूनिवर्सिटी प्रशासन ने एक सकारात्मक पहल शुरू की है। साथ ही लगातार खराब हो चुके शैक्षिक माहौल को ट्रैक पर लौटाने के लिये इस समय बड़े स्तर पर तैयारी चल रही है और बीमा योजना भी उसी का हिस्सा है। दरअसल इलाहाबाद यूनिवर्सिटी की कार्य परिषद की बैठक में इस बात का प्रस्ताव पारित किया गया था कि अब नये एडमीशन के बाद छात्र-छात्रओं का बीमा कराया जायेगा। ताकि  किसी अप्रिय स्थिति में जीवन बीमा कंपनी के मध्यम से आर्थिक मदद दी जा सके।
77 रूपये में बीमा
इलाहाबाद यूनिवर्सिटी में बीमा योजना की शुरूआत इस सत्र से पहली बार होने जा रही है। यूनिवसिर्टी प्रशासन की ओर से जारी टेंडर के बाद कयी बीमा कंपनी ने अपने प्रस्ताव भेजे थे। विश्वविद्वालय ने सबसे कम प्रिमियम वाले और अधिक लाभ देने वाले प्रस्ताव को मंजूरी दी है। इस बार बीमा 77 रूपये में होगा। डीएसडब्ल्यू प्रो. हर्ष कुमार ने बताया कि एडमीशन के दौरान ही यह प्रीमियम फीस के तौर पर स्टूडेंट से लिया जायेगा और उनका बीमा यूनिवर्सिटी को मिलने वाले अभिलखों के माध्यसे करा दिया जायेगा। इसके लिये अलग से स्टूडेंट्स को परेशान होने की आवश्यकता नहीं होगी।
Nokia [CPS] IN

Written by Amarish Shukla

प्रयागराज : शौचालय में बम फटने से दो बच्चों की मौत, एक की हालत नाजुक

UPPSC: नहीं थम रहा आयोग में विवाद अब पीसीएस-जे में धांधली को लेकर सड़क पर उतरे छात्र, हंगामा