in

वर्ल्ड कप में क्रिकेटर मो शमी मचा रहे हैं धमाल और यहां उनकी पत्नी हसीन जहां ने अब हाईकोर्ट में दाखिल की याचिका…. जानिये क्या है वजह

इलाहाबाद / प्रयागराज  । क्रिकेट वर्ल्ड कप में भारतीय तेज गेंदबाज मो. शमी धमाल मचाये हुये हैं और विरोधियों पर कहर बरपा रहे हैं। लेकिन, यहां उनकी पत्नी हसीन जहां ने फिर से उनके लिये मुश्किल खड़ी कर दी है। दरअसल मो. शमी की पत्नी ने इलाहाबाद हाईकोर्ट में एक याचिका दाखिल की है, जिसमें मो. शमी के इशारे पर पुलिस द्वारा उत्पीड़न करने का आरोप लगाया गया है। फिलहाल पुलिसकर्मियों के खिलाफ अवमानना याचिका में हसीन जहां ने अमरोहा के दिदौली थाने की पुलिस और ससुरालियों को अब कोर्ट घसीटने की तैयारी कर ली है। हाईकोर्ट ने हसीलन जहां की याचिका स्वीकार कर सुनवाई शुरू कर दी है और इस मामले में राज्य से जानकारी मांगी है।इस याचिका पर अगली सुनवाई 18 जुलाई मुकरर्र की गयी है और उसके पहले ही राज्य सरकार को अपना जवाब दाखिल करना होगा। याचिका पर सुनवाई  जस्टिस एमसी त्रिपाठी की एकल पीठ कर रही है।
क्या है मामला
इलाहाबाद हाईकोर्ट में दाखिल याचिका में हसीन जहां ने पुलिसिया कार्रवाई को टारगेट करते हुये अवमानना को आधार बनाकर याचिका दिखल की है। जिसमें हसीन जहां ने बताया है कि  28 अप्रैल 2019 को वह अपनी बेटी और मेड के साथ अमरोहा गयी थी और अपने कमरे में आराम कर थी। इसके बाद उनके पति शमी व उनके परिजनों के कहने पर रात में लगभग साढे 8 बजे एसएचओ दिदौली देवेंद्र कुमार  पुलिस टीम के साथ आये और उनसे आने कारण समेत कुछ पूछताछ की और वापस चले गये। लेकिन  रात लगभग 12 बजे पुलिस दोबारा आई और दरवाजा पीटने लगी। जब उसने दरवाजा खोला तो पुलिस कमरे में घुसकर गाली गलौज करने लगी। रात में बेटी समेत उसे थाने ले आया गया और रात भर थाने में बैठाया रखा गया। जबकि अगले दिन उसका चालान कर दिया गया।
अदालत में क्या दी दलील
हसीन जहां की ओर से दाखिल याचिका में पुलिसिया कार्रवाई पर सवाल उठाते हुये इसे सुप्रीम कोर्ट के फैसले की अवमानना बताया गया है और डीके वसु केस में सुप्रीम कोर्ट द्वारा निर्धारित किये गये नियमों का उल्लंघन होना बताया है। हसीन जहां ने अदालत में बताया है कि उसे न तो उसके वकील से संपर्क करने दिया गया और ना ही परिजनों को सूचना दी गयी। सारी रात उसे थाने में बैठाकर शारीरिक व मानसिक रूप से परेशान किया गया।  पुलिस ने उसके साथ गलत बर्ताव किया है। मामले में दिदौली थानेदार समेत पांच लोगों को इसमें पक्षकार बनाया गया है। हसीन ने आरोप लगाया कि ये सब शमी के कहने पर हुआ था।
Nokia [CPS] IN

Written by Amarish Shukla

बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले से चर्चा में आये भाजपा के पूर्व विधायक पवन पाण्डेय भेजे गये जेल

इलाहाबाद हाईकोर्ट के जज रंगनाथ पांडेय ने पीएम मोदी को लिखी चिट्ठी, जजों की नियुक्ति पर उठाए सवाल