in

गुजरात सरकार ने दी मंजूरी, अहमदाबाद जेल होगा बाहुबली अतीक का नया ठिकाना

इलाहाबाद / प्रयागराज : यूपी के प्रयागराज मंडल समेत आस पास के जिले में अपनी हुकूमत चलाने वाले बाहुबली अतीक अहमद की अब यहां से विदाई की बेला आ गयी है। गुजरात सरकार ने अतीक अहमद को यूपी से गुजरात लाये जाने की मंजूरी दे दी है। गुजरात सरकार की ओर से यूपी सरकार को इस बावत पत्र भेज दिया गया है। जिसमें बताया गया है कि अतीक अहमद को गुजरात की अहमदाबाद जेल में रखा जायेगा। यानी प्रयारागज की नैनी सेंट्रल जेल से अब अतीक अहमद को अहमदाबाद जेल में शिफ्ट किया जायेगा। हालांकि अभी सरकार की ओर से अतीक को शिफ्ट करने वाले आदेश की जानकारी नैनी जेल नहीं भेजी गयी हैं। इसी सप्ताह में आदेश के प्रति नैनी पहुंचने की पूरी संभावना है। जिसके बाद अतीक की शिफ्टिंग की प्रक्रिया शुरू होगी और अतीक का नया ठिकाना अहमदाबाद जेल बन जायेगा।
नैनी सेंट्रल जेल में हैं बंद
अतीक अहमद फिलहाल प्रयागराज की नैनी सेंट्रल जेल मे बंद हैं और हाल ही में उन्हे यहां ट्रासंफर करके लाया गया है। लेकिन अतीक के सेंट्रल जेल नैनी आने के साथ सुप्रीम कोर्ट ने उन्हे एक मामले में सख्ती दिखाते हुये गुजरात जेल में ट्रांसफर करने का निर्देश दिया था। इसके पीछे की सबसे बडी वजह यह है कि देवरिया जेल में भी अतीक के बाहुबली छवि वाले कारनामे सामने आये थे। जहां से उन्हे बरेली जेल ले जाया गया। हालांकि बरेली जेल पहुंचने के बाद अतीक ने खुद की जान को खतरा बताया और किसी भी वक्त हत्या की जाने की आशंका व्यक्त कर इस जेल से शिफ्ट करने की मांग की। वहीं, उनकी पत्नी की ओर से अतीक की तबियत और सुनवाई के लिऐ आये दिन प्रयागराज तक का सफर पर सरकार से गुहार लगाई गयी थी कि अतीक को नैनी जेल में शिफ्ट किया जाये। राज्य सरकार ने अतीक व उनकी पत्नी के आग्रह पर फैसला तो लिया, लेकिन इस बीच आचाार संहिता लग चुकी थी। जिसके कारण अतीक को शिफ्ट नहीं किया जा सकता था। जिसके चलते राज्य सरकार ने चुनाव आयोग को प्रस्ताव भेजा था, जिसमें सभी कारणों को स्पष्ट करते हुये अतीक को नैनी सेंट्रल जेल में शिफ्ट करने की परमीशन मांगी गयी थी। चुनाव आयोग ने अतीक को शिफ्ट किये जाने का आदेश जारी कर दिया। जिसके बाद अतीक को कड़ी सुरक्षा के बीच बरेली से प्रयागराज की नैनी सेंट्रल जेल ले आया गया है।
सुप्रीम कोर्ट ने गुजरात भेजा
सुप्रीम कोर्ट में चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली बेंच ने रियल एस्टेट डीलर मोहित जायसवाल के कथित अपहरण और प्रताड़ना के मामले में अतीक अहमद और उसके साथियों के विरूद्ध सीबीआई जांच का तो आदेश दिया ही। लेकन सबसे अहम कार्यवाही अतीक को यूपी से गुजरात भेजना है। हालांकि अब अतीक को किस तरह से हर सुनवाई पर प्रयागराज ले आया जायेगा, यह सवाल प्रशासन के सामने होगा। ऐसे में अतीक के जेल बदलने के बाद वीडियो कान्फ्रेंसिंग से ही सुनवाई संभव हो सकेगी। चूंकि तबीयत खराब होने व दूर जेल से हर सुनवाई पर प्रयागराज लाने में सुरक्षा कारणों का हवाला देकर अतीक व उनकी पत्नी ने यूपी  सरकार से जेल बदलने की मांग की थी। जिस पर सरकार की संस्तुति पर पिछले दिनों चुनाव आयोग ने अतीक को नैनी जेल में शिफ्ट करने का आदेश जारी किया था। लेकिन अब सुप्रीम कोर्ट के आदेश से अतीक का वर्चस्व न सिर्फ प्रयागराज बल्कि यूपी से भी खत्म करने की दिशा में बडा कदम बताया जा रहा है।
क्या है मामला
अतीक अहमद के जेल में हुकूमत चलाने की खबरों के बाद नैनी सेंट्रल जेल से अतीक को देवरिया जेल में ट्रांसफर किया गया था। जिसके बाद प्रयागराज तो कुछ शांत हुआ लेकन अतीक के कारनामे देवरिया जेल में भी शुरू हो गये। जहां पिछले साल दिसंबर में अतीक के गुर्गों ने आलमबाग के रियल एस्टेट कारोबारी मोहित जायसवाल को उनकी गाड़ी समेत घर से अगवा कर लिया था और देवरिया जेल में बंद अतीक की बैरक में ले जाया गया। जहां अतीक ने बेरहमी से मोहित को पीटा और कनपटी पर पिस्टल सटाकर मोहित की पांच कंपनियों का मालिकाना हक दो युवकों के नाम ट्रांसफर करवा लिया गया। इस मामले में मोहित ने कृष्णानगर कोतवाली में अतीक अहमद, उनके बेटे उमर समेत 12 लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करवाई। थी। घटना की खबर बाहर निकली तो नेशनल मीडिया की सुर्खियां बन गयी। अतीक के खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ तो प्रशासनिक महकमें में हडकंप मच गया। अतीक पर एफआईआर के बाद यूपी प्रशासन ने जेल में छापा भी मारा और अतीक को देवरिया से बरेली जेल भेज दिया गया था। लेकिन इसी बीच अतीक को देवरिया से वापस नैनी सेंट्रल जेल प्रयागराज भेजे जाने का आदेश सरकार ने जारी किया, लेकिन नैनी सेंट्रल जेल से अब गुजरात जेल में अतीक को ट्रांसफर करने का आदेश सुप्रीम कोर्ट ने दिया था। गौरतलब है कि अतीक अहमद पर दर्जनों की संख्या में मुदमें हैं, जिनमें प्रयागराज परिक्षेत्र में ही हत्या, लूट जैसे 20 से ज्यादा गंभीर मुकदमे  दर्ज हैं। नैनी एग्रीकल्चर कालेज में गुंडई दिखाने के बाद अतीक के विरूद्ध हाईकोर्ट ने सख्ती दिखाई थी, जिसके बाद वह गिरफ्तार किये गये और तब से वह जेल में ही बंद हैं और उनकी हर तरह की जमानत निरस्त कर दी गयी है।
Nokia [CPS] IN

Written by Amarish Shukla

UPPSC की भर्ती में धांधली को लेकर फिर से सुलग उठा प्रयागराज, भर्तियों को रद्द करने की मांग

मेडिकल कॉलेज के SRN अस्पताल में डॉक्टर ने नर्स से जबरन शारीरिक संबंध बनाने का किया प्रयास, हड़ताल के साथ हंगामा