Main Menu

राज्यपाल नाईक ने उपराष्ट्रपति एवं केन्द्रीय मंत्रियों से की मुलाकात, 22 फरवरी को नई दिल्ली में होगा पुस्तक का लोकार्पण

Share This Now
लखनऊ : उत्तर प्रदेश के राज्यपाल नाईक ने आज नई दिल्ली में उप राष्ट्रपति एम0 वेंकैया नायडु, लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन सहित केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर, केन्द्रीय रेली मंत्री पियूष गोयल, केन्द्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री हर्षवर्धन, केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री जे0पी0 नड्डा, केन्द्रीय अल्पसंख्यक मंत्रालय के मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी, पूर्व गृहमंत्री लालकृष्ण आडवाणी तथा अध्यक्ष भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद विनय सहस्रबुद्धे से शिष्टाचारिक भेंट की।

जलपाईगुड़ी; ममता सरकार ने माटी को बदनाम कर दिया है और मानुष को मजबूर कर दिया है : पीएम मोदी

राज्यपाल राम नाईक की संस्मरणात्मक पुस्तक ‘चरैवेति! चरैवेति!!’ के अरबी एवं फारसी संस्करण का लोकार्पण 22 फरवरी, 2019 को इण्डिया इस्लामिक कल्चरल सेंटर, नई दिल्ली में किया जायेगा। इसी क्रम में पुस्तक ‘चरैवेति! चरैवेति!!’ के जर्मन अनुवाद का लोकार्पण पुणे विश्वविद्यालय के जर्मन भाषा विभाग में किया जायेगा तथा सिंधी संस्करण का लोकार्पण लखनऊ में होगा जिसकी तिथि शीघ्र घोषित की जायेगी।
उल्लेखनीय है कि राज्यपाल के संस्मरणों पर आधारित मराठी भाषी पुस्तक ‘चरैवेति! चरैवेति!!’ का लोकार्पण 25 अप्रैल, 2016 को मुंबई में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडनवीस द्वारा किया गया था। तत्पश्चात् 9 नवम्बर, 2016 को पुस्तक ‘चरैवेति!चरैवेति!!’ का हिन्दी, अंग्रेजी, उर्दू एवं गुजराती भाषा में लोकार्पण राष्ट्रपति भवन में राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी की उपस्थिति में किया गया जिसमें मंच पर उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी, लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन, केन्द्रीय मंत्री वेंकैया नायडू, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष एवं सांसद शरद पवार वक्ता के रूप में विशेष रूप से उपस्थित थे।
इसी क्रम में 11 नवम्बर, 2017 को राजभवन उत्तर प्रदेश में पुस्तक ‘चरैवेति! चरैवेति!!’ के हिन्दी, अंग्रेजी एवं उर्दू प्रकाशन का लोकार्पण मुख्यमंत्री अखिलेश यादव, केन्द्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह व कांग्रेस के पूर्व मंत्री अम्मार रिज़वी ने किया तथा 13 नवम्बर, 2016 को मुंबई में गुजराती भाषा में लोकार्पण केन्द्रीय मंत्री पुरषोत्तम रूपाला द्वारा किया गया।
26 मार्च 2018 को संस्कृत नगरी काशी में राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद द्वारा ‘चरैवेति! चरैवेति!!’ के संस्कृत संस्करण का लोकार्पण किया गया। पुस्तक ‘चरैवेति! चरैवेति!!’ अब तक 6 भाषाओं, मराठी, हिन्दी, उर्दू, अंग्रेजी, गुजराती एवं संस्कृत में प्रकाशित हो चुकी है। अरबी, फारसी, जर्मन और सिंधी के प्रकाशन के बाद पुस्तक 10 भाषाओं में उपलब्ध होगी।


Leave a Reply