in , , ,

इंजीनियरिंग छात्रों ने किया कमाल, अब इसरो और डीआरडीओ से मिला आर्डर

engineering students made 3d printer now supply orders from isro and drdo
engineering students made 3d printer now supply orders from isro and drdo

भिलाई : छह इंजीनियरिंग छात्रों ने कमाल कर दिखाया है। इन सभी ने पहले तो एक स्टार्टअप कंपनी स्थापित की ओर फिर इस कंपनी के जरिए एक ऐसा थ्रीडी प्रिंटर विकसित किया जो अब देश में अंतरिक्षक अनुसंधान और विकास के काम में आ रहा है। engineering students made 3d printer now supply orders from isro and drdo

कंपनी के सीओओ मनीष अग्रवाल ने बताया कि हम अभी स्पेस की जरूरतों के मुताबिक थ्री-डी प्रिंटर तैयार कर रहे हैं। क्योंकि स्पेस में हल्के वजन वाली धातुओं से बने हुए डिजाइन ज्यादा उपयोगी होते हैं। इसरो के मैनेजमेंट ने इस संबंध में अपनी जरूरत बताई है।

मनीष अग्रवाल ने बताया कि इस पर अभी काम हो रहा है। उपयोगी लगने पर इसरो के प्रबंधन ने इस पर भी विचार करने की बात कही है। फिलहाल वेंडर के माध्यम से भी थ्री-डी प्रिंटर की सप्लाई हो रही है।

engineering students made 3d printer now supply orders from isro and drdo
engineering students made 3d printer now supply orders from isro and drdo

टेकबी कंपनी के बनाए टेरेक्स नामके थ्री-डी प्रिंटर की विशेषताओं को देखते हुए इसरो सहित कई अन्य संस्थान अब इन्हें इस प्रिंटर का ऑर्डर दे रहे हैं। चार लाख स्र्पये की शुरूआती लागत से महज 6 महीने पहले खड़ी की गई यह कंपनी महज दो वर्षों में छह करोड़ स्र्पये के टर्न ओवर तक पहुंच गई है। छह लोगों से शुरू हुई यह कंपनी अब सैकड़ों लोगों को रोजगार भी उपलब्ध करा रही है।

शासन के उद्योग विभाग ने इनक्यूबेशन में पूरी मदद की। जहां भी युवाओं के स्टार्टअप को बढ़ावा देने का मंच था, वहां हमें जगह दी गई। इससे हमें क्लाइंट तक पहुंचना आसान हुआ। आज हम क्लाइंट की जरूरतों के मुताबिक थ्रीडी प्रिंटर तैयार कर रहे हैं। कंपनी की यूनिट भिलाई और दिल्ली में है।

थ्री-डी प्रिंटर के माध्यम से कई तकनीकी चीजें आसान हो जाती हैं। कंपनी में प्रोडक्शन डायरेक्टर विकास चौधरी ने बताया कि वेंडर के माध्यम से सप्लाई विदेशों में भी आरंभ हो गई है। अभी इथियोपिया में हमारी कंपनी के थ्री-डी प्रिंटर का आर्डर हुआ है।

स्टार्टअप कंपनी टेकबी तैयार स्थापित की गई है। इस कंपनी में 60 इंजीनियरों के साथ-साथ टेक्नीशियन और सेल्स स्टाफ को रोजगार मिला है। कंपनी में लगभग 15 इंजीनियर अभी इंटर्नशिप कर रहे हैं। कंपनी के डायरेक्टर अभिषेक अम्बष्ट ने बताया कि हमने कालेज की पढ़ाई के दौरान इंटरनेट की सहायता से थ्री-डी प्रिंटर का मॉडल तैयार किया था। इसे आईआईटी खड़गपुर, कानपुर आदि में डिस्प्ले किया गया।

यहां मिले अनुभवों के आधार पर इसे और बेहतर तरीके से विकसित किया गया। फिर छोटी सी पूंजी से स्टार्टअप के जरिए काम शुरू किया। अब इसके पेशेवर इस्तेमाल की काफी संभावना को देखते हुए भारत के अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान (इसरो) और रक्षा अनुसंधान संस्थान (डीआरडीओ) से भी हमें इसकी सप्लाई के ऑर्डर मिले हैं।

Written by National TV

Bhakti Sharma became the Sarpanch of village job drop in America, joining 100 influential women of the country

अमेरिका में नौकरी छोड़ गांव की सरपंच बनीं भक्ति शर्मा देश की 100 प्रभावशाली महिलाओं में शामिल

geeta parivar arjun bhav sanskar path camps foundation of civilized civil society

सुसंस्कृत बच्चे सभ्य समाज की नींव : गीता परिवार