in ,

मनिहारी का वेश बनाया-श्याम चूड़ी बेचने आया, डिजिटल जन्माष्टमी झाँकी

digital janmashtami tableau in lko
digital janmashtami tableau in lko

लखनऊ। डिजिटल जन्माष्टमी झाँकी में मनिहारी का वेश बनाया श्याम चूड़ी बेचने आया। digital janmashtami tableau in lko

मित्तल परिवार की ओर से न्यू गणेशगंज अमीनाबाद रोड पर श्रीकृष्ण जन्मोत्सव एवं डिजिटल मूविंग झांकियों की श्रृखंला में श्रीकृष्णजी का मनिहारी रूप की झांकी प्रदर्शित की गई।

Nokia [CPS] IN

संयोजक अनुपम मित्तल ने बताया कि श्रीकृष्ण जन्मोत्सव की डिजिटल मूविंग झांकियों को विगत एक माह से लखनऊ के विजय वर्मा व सहयोगी कलाकारों के कठिन परिश्रम से तैयारी की गई है तथा झांकियां, न्यू गणेशगंज मार्ग, चार धाम द्वार लखनऊ के घनश्याम अग्रवाल की कतकतियां एलईडी पैनलों, रंग-बिरंगी लाइटों की रोशनी से जगमगा रहा है।

मानों मथुरा, वृदांवन, बरसाना यहीं पर बसते है। श्रीकृष्ण जन्मोत्सव की डिजिटल मूविंग झांकियां, सेल्फी कार्नर एवं रंग-बिरंगी रोशनी का श्रद्धालुगण कृष्णरस में सराबोर होकर आनंद उठा रहे है।

digital janmashtami tableau in lko
digital janmashtami tableau in lko

श्रीकृष्णजी का मनिहारी रूप की झांकी में जब श्रीकृष्ण ने ब्रज को छोड़ दिया तो पूरा ब्रज सुनसान सा हो गया था क्योंकि ब्रज के कण कण में श्रीकृष्ण का वास है। अपने माता पिता, मित्रगण, गायों, राधा, गोपियों की याद उन्हें सताती रहती थी तथा मिलने के लिए व्याकुल रहते थे।

वे उद्धव से कहते है कि उन्हें आत्मा से श्री राधा प्रिय हैं, गोपियां उनकी आत्मा में रहती हैं। कृष्ण के प्रति अनन्य प्रेम से भरी है। उन्होंने तो श्रीकृष्ण के लिए तो लोक और परलोक दोनांे छोड़ दिए है। वस्तुतः कृष्ण प्रेम के भूखे हैं। श्रीकृष्ण का मथुरा से ब्रज को लौटना इतना सरल भी नहीं था क्योंकि धर्म की स्थापना करना ही श्रीकृष्ण का ध्येय था।

ये श्रीकृष्ण का ब्रज के प्रति प्रेम ही था कि वो स्वयं को रोक नहीं पाए और भेष बदलकर बरसाना पहुंच गए। श्रीकृष्ण ने मनिहारी का रूप बनाया और कंधे पर रंग बिरंगी चूड़ियों के गुच्छे, सर पर टोकरी लिए चूड़ी बेचने बरसाना पहुंच गए। गांव में आवाज लगाकर रंग-बिरंगी चूड़ियां बेचने लगे।

तभी वहां राधा और गोपियों के संग रंग-बिरंगी चूड़िया खरीदने आई। राधा और गोपियों को चूड़ी बेचते समय श्रीकृष्ण ने देखा कि सभी गोपियों का विवाह हो चुका है लेकिन वो सुहाग के रंग की चूड़ियां नहीं खरीद रही थी बल्कि काला और श्याम रंग की चूड़ियां खरीद रही थी।

जब श्रीकृष्ण ने राधा और गोपियों से इसका कारण पूछा तो उन्होंने सहजता से उत्तर दिया कि हम लाल, हरी और पीली रंग की चूड़ियां नहीं पहनेंगे हमें तो श्याम रंग की चूड़ी ही भाती है। जब श्रीकृष्ण राधाजी को चूड़ी पहनाने के लिए उनके हाथ को स्पर्श करते हैं तो राधाजी को समझने देर नहीं लगती कि ये तो श्रीकृष्ण ही हैं जिन्होंने छलिया का रूप धरा हैं।

इसके साथ ही राधा कृष्ण का झूला, क्षीर सागर में शेषनाग पर लेटे हुए विष्णु व लक्ष्मी, 20 फुट ऊंचा शिवलिंग, अगस्त्य मुनि के मुख से जल अवतरण, राम दरबार, हनुमानजी के हदय से सियाराम के दर्शन, बंदर के संग करतब दिखाता मदारी की झांकी श्रद्धालुओं को आकर्षित कर रही है।

Nokia [CPS] IN

सैनिक वेशभूषा, नीले अश्व, धारा 370 हटाये जाने की खुशी में कश्मीर की पहाड़ियों के बीच लहराते तिरंगा, आग उगलते ड्रेगन के सेल्फी कार्नर भी बनाये गए है। बुधवार 28 अगस्त को गोवर्धन लीला की झांकी तथा सांस्कृतिक संध्या में नृत्य एवं गायन प्रतियोगिता आयोजन किया जाएगा।

Nokia [CPS] IN

Written by National TV

lko nagar nigam campaign against banned plastic

नगर निगम ने प्रतिबंधित प्लास्टिक के विरुद्ध चलाया अभियान

rld attack on modi government for people losing  jobs

मोदी सरकार के कारण लाखों लोगों पर नौकरी जाने की तलवार लटक रही है : रालोद