in

प्रयागराज में वकील की हत्या पर हड़ताल पर गये वकील, तहसीलों से लेकर कचहरी तक तालाबंदी, विरोध के बाद बढाई गयी सुरक्षा

इलाहाबाद / प्रयागराज : प्रयागराज जिला कचहरी में वकालत करने वाले अधिवक्ता सुशील पटेल की हत्या के बाद पूरे जिले के अधिवक्ता अनिश्चित कालीन हड़तााल पर चले गये हैं। जिले की सभी तहसीलों समेत जिला न्यायालय में तालाबंदी कर अधिवक्ताओं ने न्यायिक कार्य ठप्प करा दिया है। अधिवक्ता गिरफ्तारी व मुआवजे की मांग पर अड़े हुये हैं और जगह जगह प्रदर्शन, ज्ञापन, पुतला दहन का क्रम चल रहा है। वकील सुशील की हत्या का मंगलवार को व्यापक पैमाने पर असर रहा। न्यायिक प्रशासन से जुड़े सभी दफ्तरों को बंद करा दिया गया और रजिस्ट्री आदि का कार्य भी पूरी तरह से बंद हो गया है। वहीं, शव का अंतिम संस्कार न करने पर अमादा परिजनों को आठ बिस्वा जमीन पट्आ देने व मुआवजे देने का एडीएम ने ऐलान किया तो वकील सुशील का अंतिम संस्कार किया जा सका था। गौरतलब है कि सोरांव थाना क्षेत्र के लेहरा तिवारीपुर गांव निवासी अधिवक्ता सुशील पटेल की रविवार रात गोहरी क्रॉसिंग के पास गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। सोमवार को भयंकर विरोध के बीच पुलिस प्रशासन ने किसी तरह मानमनौव्वल कर अंतिम संस्कार कराया था।
फोन काल से जुड़ी कड़िया
मामले की जांच में जुटी पुलिस ने घटना से पहले सुशील से हुई बातचीत वाले लोगों की डिटेल हासिल कर ली है। साथ ही घटना के दौरान वहां एक्टिव रहे फोन नंबरों को भी ट्रेस किया जा रहा है। पुलिस के अनुसार अधिवक्ता दिनेश पटेल से आखिरी बार सुशील की बात हुई थी और उन्होंने ने सुशील को बुलाया था। जिसके बाद वह जा रहे और बदमाशों की गोली का शिकार हो गये। पता यह भी चला है कि दिनेश की जमीन के विवाद में ही सुशील पैरवी कर रहे थे। हालांकि वकील से पहले एक लेखपाल व कुछ अन्य लोगों से भी सुशील की बात हुई है। पुलिस सभी से पूछताछ कर रही है। जांच में झूंसी की एक विवादित जमीन का भी मामला सामने आया है। फिलहाल क्राइम ब्रांच और पुलिस टीम ने शिक्षा विभाग के एक कर्मचारी समेत 10 संदिग्ध लोगों को पूछताछ के लिए उठाया है। उनसे मिले सुराग के आधार पर अन्य लोगों की तलाश चल रही है। साथ ही कड़ियां जोडी जा रही हैं। मामले में एसएसपी अतुल शर्मा ने बताया कि अभी तक जांच में जमीनी विवाद का ही मामला सामने आ रहा है। फिलहाल हर ऐंगल से पड़ताल जारी है। जल्द ही खुलासा कर दिया जायेगा।
कर्मचारियों से झड़प
अधिवक्ता के गम में डूबे वकीलों ने सरकारी कार्यालयों को बंद कराकर अपना विरोध प्रदर्शन शुरू किया तो इस दौरान कयी जगह कर्मचारियों से झड़प भी हुई। जिलाधिकारी को ज्ञापन देने के दौरान तो अधिवक्ताओं की मेन गेट के पास धक्कामुक्की हो गई और गेट की कुंडी टूटने पर कर्मचारियों ने जमकर नोकझोक हुई। मामले में आईजी मोहित अग्रवाल ने भी परिजनों से पूछताछ की और प्राइम सस्पेक्ट को लेकर परिजनों का फीडबैक लिया है। हालांकि अभी तक पुलिस के जो प्राइम सस्पेक्ट हैं उन्हे लेकर परिजनों ने मित्र होने का दावा किया है। जबकि जिन पर शक जातया गया है, उनसे अभी तक दूर दूर तक कोई कड़ी नहीं जुड पायी है।
Nokia [CPS] IN

Written by Amarish Shukla

प्रयागराज में हिस्ट्रीशीटर नान बच्चा की गोली मारकर हत्या, सड़क पर हजारों लोग उतरे

भाजपा विधायक साधना सिंह ने 3 मुकदमें में गिरफ्तारी के आदेश पर स्पेशल कोर्ट में किया सरेंडर, मिली जमानत