Main Menu

मध्यप्रदेश : राहुल गाँधी के “पंडित” बनने से वामपंथी नाराज, कांग्रेस को नहीं मिली गठबंधन में एंट्री

Share This Now

भोपाल : Communist VS Congress : मध्यप्रदेश में विधानसभा चुनाव को लेकर उठा पटक जारी हैं. बीजेपी को हराने के लिए 6 दल एक हो गये हैं लेकिन सबसे बड़ी हैरत की बात यह हैं कि इन दलों ने कांग्रेस को कोई भाव नहीं दिया और खुद ही गठबंधन कर लिया हैं. जानकारी के अनुसार सत्तारूढ़ बीजेपी के खिलाफ गठबंधन बनाने के लिए आठ राजनीतिक दलों की रविवार को भोपाल में बैठक हुई. इस बैठक में लोकतांत्रिक जनता दल, सीपीआई, सीपीएम, बहुजन संघर्ष दल, गोंडवाना गणतंत्र पार्टी, समाजवादी पार्टी, राष्ट्रीय समानता दल एवं प्रजातांत्रिक समाधान पार्टी शामिल हुई.

इस गठबंधन में कांग्रेस के शामिल होने को लेकर भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीआई) और मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीएम) ने विरोध खड़ा कर दिया जिसके बाद कांग्रेस को इस गठबंधन में शामिल नहीं किया गया.

Communist VS Congress

सीपीआई (एम) का आरोप 

सीपीआई (एम) ने दावा किया कि कांग्रेस राज्य में ‘सॉफ्ट हिन्दुत्व’ की राजनीति कर रही है. इसलिए कांग्रेस को इस दल में शामिल नहीं किया गया. लोकतंत्रिक जनता दल (एलजेडी) के नेता ने कहा कि सीपीआई और सीपीआई (एम) समेत रविवार को मिले आठ दल अपनी गठबंधन वार्ता को आगे बढ़ाने के लिए 7 अक्टूबर को फिर से मिलेंगे.

सीपीआई (एम) सचिव जसविंदर सिंह ने कहा कि कांग्रेस सॉफ्ट हिन्दुत्व की राजनीति कर रही है। वहीं बीजेपी हार्डकोर हिन्दुत्व के ऐजेंडे को अपना रही है। ऐसे में हम कांग्रेस और बीजेपी के बीच कोई अंतर नहीं देख रहे हैं। उन्होंने कहा कि, वामपंथी दल सांप्रदायिकता के खिलाफ है। हम बीजेपी को हराने के लिए एकजुट होने की कोशिश कर रहे है। लेकिन हम नहीं चाहते कि समूह को कांग्रेस द्वारा संचालित किया जाए

Source : oneindia.com

 



Leave a Reply