in

इलाहाबाद व फूलपुर में प्रत्याशियों को झटका, 34 प्रत्याशियों के पर्चे खारिज, अब शुरू होगा जोडतोड

प्रयागराज / इलाहाबाद : इलाहाबाद व फूलपुर लोकसभा सीट पर अपनी दावेदारी करने वाले दर्जनों प्रत्याशियों की उममीदों को जोरदार झटका लगा है। इन दोनों सीटों से 34 प्रत्याशियों का नामांकन खारिज कर दिया गया है। फिलहाल अब प्रत्याशियों की संख्या अधिक होने से बन रहे समीकरणों में बदलाव होगा और वोट कटवा की संख्या कम होने का असर हार जीत के अंतर पर पडेगा। हालांकि बेहद ही आश्चर्य जनक ढंग से इतनी बडी संख्या में नामांकन पत्र खारिज होने का मामला सामने आया है, लेकिन यहां गौर करने वाली बात यह है कि किसी भी राष्ट्रीय दल के प्रत्याशी के प्रपत्रों में खामी नहीं आयी, जिसके कारण उनका पर्चा खारिज नहीं किया गया है।  फूलपुर में 25 तथा इलाहाबाद में नौ पर्चे खारिज हो गए। जिसके कारण अब इलाहाबाद और फूलपुर दोनों ही सीटों पर 14-14 प्रत्याशी मैदान में रह गए हैं। जिला निर्वाचन अधिकारी द्वारा दी गयी जानकारी के अनुसार जिन लोगों के नामंकन पत्र खारिज हुये हैं उनमें से अधिकांश के एफिडेबिट या प्रस्तावक के विवरण में कमी थी। फिलहाल इतनी बडी संख्या में पर्चे खारिज होने के कारण इन दोनों लोकसभा सीटों के नाम एक अनचाहा रिकार्ड भी बन गया। यह पहला ऐसा चुनाव होगा, जिसमें इतनी अधिक संख्या में पर्चे दाखिल हुये हैं। फूलपुर में तो प्रत्याशी के दुगने से ज्यादा पर्चे खारिज हो गये है।
नामंकन खारिज होने वालों पर नजर
इलाहाबाद व फूलपुर से 34 प्रत्याशियों के पर्चे खारिज हुये यानी अब यह चुनाव आधिकारिक तौर पर नहीं लडेंगे। लेकिन अब इन प्रत्याशियों पर सियासी दलों की पैनी नजर है और इनसे नजदीकी बढाने व समर्थन के लिये राजनीतिज्ञों को छोड दिया गया है। दावेदारों के नजदीकियों के माध्यम से चुनाव की गोट सेट करने के लिये ये छोटे मगर बतौर प्रत्याशी वाली पहचान कारगर साबित होंगे। अमूमन 2 से 4 हजार वोट प्रत्याशी बटोर लेते हैं, ऐसे में इनका छोटा वोट बैंक एक बडी पूंजजी बन सकता है और अब इसी पूंजी को लूटने की फिराक में हर बडे दल लगे हुये हैं। चूंकि इस बार चुनाव से दूर होने वाले ऐसे प्रत्याशियों की संख्या काफी अधिक है, ऐसे में बडे सियासी दल इससे खुश होंगे। फिलहाल अब जोडतोड का क्रम शुरू होगा और प्रत्याशियों से समर्थन के लिये साम दाम दंड भेद अपनाया जायेगा।
फूलपुर से कौन है प्रत्याशी
फूलपुर लोकसभा सीट से अब 14 प्रत्याशी मैदान में हैं, इनमे भाजपा, सपा बसपा गठबंधन, कांग्रेस, प्रसपा समेत कुल 12 दलों के प्रत्याशी है। जबकि दो प्रत्याशी निर्दल चुनाव लडेंगें। इनमे —
1 — केशरी देवी पटेल       —    भाजपा
2 — पंकज सिंह चंदेल       —    कांग्रेस
3 — पंधारी यादव          —    सपा
4 — अतुल कुमार द्विवेदी    —   लोक गठबंधन पार्टी
5 — कमला प्रसाद          —    अंबेडकर युग पार्टी
6 — दक्खिनी प्रसाद        —   राष्ट्रीय गरीब दल
7 — प्रिया सिंह पौल        —   प्रगतिशील समाज पार्टी (लोहिया)
8 — रामनाथ प्रियदर्शी सुमन  —   राष्ट्रीय जनमत पार्टी
9 — रामलखन चौरसिया     —    मौलिक अधिकार पार्टी
10 — श्रीचंद्र केसरवानी      —   बलीराज पार्टी
11 — सुनील कुमार मौर्या    —  प्रगतिशील समाज पार्टी
12 — संजीव कुमार        —   युवा विकास पार्टी
13 — ऋषभ कुमार        —  निर्दलीय
14 — नीरज              —  निर्दलीय
इलाहाबाद से कौन है प्रत्याशी
इलाहाबाद संसदीय सीट से भी कुल 14 प्रत्याशी अब मैदान में हैं। इनमे भाजपा, सपा बसपा गठबंधन, कांग्रेस, प्रसपा समेत कुल 12 दलों के प्रत्याशी है। जबकि दो प्रत्याशी निर्दल चुनाव लडेंगें।  इनमें —
1 — रीता बहुगुणा जोशी   —       भाजपा
2 — योगेश शुक्ल        —      कांग्रेस
3 — राजेंद्र प्रताप सिंह     —     सपा
4 — गिरधर गोपाल       —      भाकपा
5 — अजीत कुमार पटेल   —     प्रगतिशील समाज पार्टी
6 — अभिमन्यु          —     प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया)
7 — ओम गुरु चरणदास   —     सनातन संस्कृति रक्षा दल
8 — गायत्री प्रसाद       —      भारतीय शक्ति चेतना पार्टी
9 — भवानी सिंह        —      आम आदमी पार्टी
10 — राम पाल         —      परिवर्तन समाज पार्टी
11 — शिवदत्त शुक्ल     —     अन्नदाता पार्टी
12 — शिव प्रसाद       —      लोक गठबंधन पार्टी
13 — अजय कुमार      —      निर्दलीय
14 — रवींद्र  श्रीवास्तव   —      निर्दलीय
इनका पर्चा हुआ खारिज
जिन लोगों का नामांकन खारिज हुआ उनमे से लगभग हर प्रत्याशी अपने जीत के दावों के साथ उतरा था और अपनी जीत की गणित बताता फिर रहा था। लेकिन अब चुनाव मैदान में ही ना बने रहने के कारण उनमें खासी निराशा। फिलहाल यह जीतते या नहीं यह तो इनके मैदान में होने पर पता चलता। लेकिन इनमी ना मौजूदगी सियासी दलों के लिये राहत भरी है। फिलहाल फूलपुर सीट से 39 लोगों ने नामांकन किया था। उनमें से 25 लोगों का नामांकन खारिज हुआ है। नामंकन खारिज होने वालों में योगेश कुमार कुशवाहा, रईस अहमद, संदीप कुमार, राकेश कुमार, दिनेश बहादुर सिंह, कमलेश चंद्र पटेल, विक्की मौर्या, रश्मि रावत, जियाउल हक, सावित्री देवी, राजेंद्र सोनकर, जितेंद्र प्रसाद, अकील अहमद, विनोद कुमार सरोज, प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, भानू प्रताप सिंह, आर्शीवाद प्रसाद पांडेय, जिलेदार गौतम, रीता विश्वकर्मा, रमाशंकर, मनोज, राकेश कुमार, राम अचल, जीत लाल, गणेशजी त्रिपाठी के नामांकन निरस्त कर दिए गए। वहीं, इलाहाबाद से 23 लोगों ने नामांकन किया था। जिनमें से 9 लोगों का नामांकन खारिज हुआ है। इनमे मनोज कुमार, चित्रांसू, राजेश्वर प्रसाद, सरोज, मुकेश कुुमार, जगत बहादुर सिंह, गोपाल स्वरूप जोशी, शिव कुमार प्रजापति, धर्मेंद्र कुमार के नामांकन निरस्त कर दिए गए। दोनों ही सीट पर मैदान में बचे प्रत्याशियों की सूची चस्पा कर दी गई है। इसके अलावा निर्वाचन आयोग की वेबसाइट पर भी पूरी सूचना अपलोड कर दी गई है।
Nokia [CPS] IN

Written by Amarish Shukla

भाजपा विधायक साधना सिंह समेत पूर्व मंत्री पारस नाथ व रवींद्र शुक्ला के खिलाफ गैर जमानतीय वारंट जारी

lok sabha election pm modi attack on opposition for EVM in bihar darbhanga

पहले कोसते थे मोदी को ,अब ईवीएम को कोस रहे – पीएम मोदी