in

बाहुबली अतीक की पत्नी ने खोला राज क्यों पीएम मोदी के खिलाफ लड रहे चुनाव

प्रयागराज/ इलाहाबाद  : नैनी जेल में बंद बाहुबली अतीक अहमद एकाएक चुनाव मैदान में कैसे उतर आये और क्यों उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ वाराणसी से चुनाव लडने का क्यों एलान किया है ? यह सवाल पिछले तीन दिनों से जनता और मीडिया दोनों में छाया हुआ है। लेकिन, इस सवाल से अब पर्दा बाहुबली की पत्नी शाइस्ता परवीन ने उठा दिया है और प्रेस कांफ्रेंस कर अतीक अहमद के चुनाव लडने की असली वजह बताई है। गौरतलब है कि अतीक अहमद फूलपुर लोकसभा से सांसद रह चुके हैं। लेकिन, पिछले दो साल से वह जेल में बंद और उन्हे चुनाव लडने के लिये किसी पार्टी ने टिकट नहीं दिया है। उप चुनाव में अतीक निर्दलीय मैदान में उतरे लेकिन बुरी तरह से हार गये थे और इस बार किसी बडे दल से टिकट दिये जाने के जुगाड में थे। लेकिन किसी बडी पार्टी ने अतीक को प्रत्याशी नहीं बनाया, जिसके बाद अतीक ने निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर भी अपना नामांकन नहीं किया। लेकिन सुप्रीम कोर्ट द्वारा अतीक को गुजरात जेल भेजे जाने की खबर आते ही अचानक से अतीक ने वाराणसी से चुनाव लडने का ऐलान किया और उनके नजदीकियों ने अतीक के नाम से नामांकन पत्र भी खरीद लिया। खबर आई की अतीक शिवपाल यादव की पार्टी से चुनाव लडेंगे। लेकिन रविवार को अतीक की पत्नी शाइस्ता परवीर ने प्रेस कांफ्रेंस कर सभी सस्पेंस को खत्म किया और बताया कि अतीक निर्दलीय चुनाव लडेंगे।
क्या बताया कारण
अतीक की पत्नी शाइस्ता परवीन ने बताया कि वह अतीक से मिलने जेल में गयी तो उन्होंने यह संदेश सभी देने के लिये कहा कि वह वाराणसी से चुनाव लडेंगे। क्योंकि सभी पार्टियों ने प्रधानमंत्री के सामने हथियार डाल दिया है और सभी प्रत्याशियों ने पीएम को वॉक ओवर दे दिया है। ऐसे में पीएम को टक्कर देने के लिऐ किसी प्रत्याशी का होना आवश्यक है। अतीक का संदेश बताते शाइस्ता ने कहाकि अगर सपा, बसपा, कांग्रेस प्रधानमंत्री मोदी को चुनौती देना चाहते हैं तो अतीक अहमद को समर्थन देना चाहिए। शाइस्ता ने दावा कि वाराणसी में अल्पसंख्यकों की संख्या अधिक है और अतीक अल्पसंख्यकों की मजबूत आवाज हैं, ऐसे में उनकी नुमाइंदगी के लिये जब कोई नहीं है तो अतीक को खुद चुनाव में उतरना पड रहा है।
निर्दल लडेंगे अतीक
शाइस्ता परवीन के अनुसार अभी तक किसी भी दल से अतीक को टिकट नहीं मिला है और अतीक अहमद निर्दलीय ही चुनाव लडेंगे। उन्होंने सभी दलों से सपोर्ट मांगा है। हालांकि उनका चुनाव बहुत कुछ पैरोल पर निर्भर करेगा। अगर अतीक को पैरोल मिली तो वाराणसी में ही वह डेरा जमायेंगे और पीएम के खिलाफ खुले मैदान में ताल ठोंकेंगे। हालांकि अतीक की पैरोल पर सुनवाई आज यानी सोमवार को स्पेशल कोर्ट में होगी। जिस पर अतीक गुट समेत सभी दलों व बीजेपी की भी नजर होगी। गौरतलब है कि अतीक के वाराणसी से चुनाव लडने पर मुस्लिमों वोटों का पूरी तरह से बिखराव होगा। कांग्रेस और गठबंधन के मुस्लिम वोट बैंक पूरी तरह से बिखर जायेंगे और इससे पीएम की राह और आसान हो जायेगी।
बसपा से नाराजगी
शाइस्ता परवीन ने बताया कि फूलपुर लोकसभा के उपचुनाव में उन्होंने बसपा बॉस मायावती से मुलाकात की थी और उन्होंने अतीक को समर्थन देने को कहा था, लेकिन उन्होंने समर्थन नहीं दिया। इससे पिछला चुनाव अपेक्षाकृत सही  नहीं हुआ। वाराणसी में मुस्लिम बाहुल्यता है और मुस्लिमों की हक की आवाज उठाने वाले अतीक के लिऐ वाराणसी दिल खोलकर स्वागत को तैयार है। ऐसे में इस बार अतीक वाराणसी से ही चुनाव लडेंगे।
Nokia [CPS] IN

Written by Amarish Shukla

hindi film gunvali dulhniya is a romantic comady kanchan awasthi

रोमांटिक कॉमेडी फिल्म है – ‘गनवाली दुल्हनिया‘ : कंचन अवस्थी

गठबंधन प्रत्याशी इंद्रजीत का फिर विवादित बयान बोले, गुंडे सिर्फ क्षत्रिय जाति के लोग