in

पोस्टमार्टम के बाद घर पहुंचा वकील का शव घर पर हजारों उमड़ा जनसैलाब

अमरीश मनीष शुक्ला इलाहाबाद। इलाहाबाद में बदमाशों की गोली का शिकार हुए अधिवक्ता राजेश कुमार श्रीवास्तव के पोस्टमार्टम के बाद उनका शव घर पहुंच गया है । शव पहुंचने से पहले ही हजारों लोग उनके घर के बाहर जमा हुए हैं और शव पहुंचने के बाद यह भीड़ जनसैलाब में बदल गई है । किसी बवाल व अशांति  फैलने की संभावना को देखते हुए पूरे क्षेत्र को पुलिस छावनी में तब्दील कर दिया गया है ।

अधिवक्ता संघ के जो पदाधिकारी हैं उनसे व परिजनों से लगातार पुलिस अधिकारी व प्रशासनिक अफसर बातचीत कर रहे हैं , ताकि कोई भी मामला बढ़ने न पाए । जबकि मुख्यमंत्री की ओर से दिए गए आश्वासन व मुआवजे की भी जानकारी परिजनों को दे दी गई है और हर संभव मदद के साथ न्याय दिलाने का आश्वासन दिया जा रहा है ।

शव का अंतिम संस्कार कराने का प्रयास 

लगातार प्रशासनिक अधिकारी यह प्रयास कर रहे हैं कि मामला अब और अधिक तुूल न पकड़े। क्योंकि पूरे दिन इलाहाबाद में बवाल का दौर चलता रहा और बड़ी मुश्किल से बवाल थमा है। ऐसे में अगर शव पहुंचने के बाद उसका अंतिम संस्कार देर शाम तक ना हुआ तो कल फिर से माहौल बिगड़ सकता है। हालांकि अभी परिजन अंतिम संस्कार करने को लेकर कोई कदम नहीं उठा रहे हैं, लेकिन प्रशासनिक अधिकारी कुछ वरिष्ठ अधिवक्ताओं के साथ बातचीत कर रहे हैं और संभावना है कि राजेश श्रीवास्तव के पार्थिव शरीर का आज ही अंतिम संस्कार कर दिया जाए ।

गृह मंत्रालय ले रहा रिपोर्ट

बता दे कि आज सुबह कचहरी से पहले मनमोहन पार्क के पास राजेश श्रीवास्तव की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी । उसके बाद पूरे शहर में अधिवक्ताओं ने जमकर बवाल काटा था । इलाहाबाद हाईकोर्ट के अधिवक्ताओ ने कार्य का बहिष्कार कर दिया था और प्रदर्शन करते हुए कार्यवाही की मांग की थी । बता दें कि घटना के बाद पूरे उत्तर प्रदेश में जगह-जगह अधिवक्ता संगठन सड़क पर उतर आए हैं और उनके प्रदर्शन के बाद से प्रदेश में बिगड़ रहे माहौल को देखते  सरकार की ओर से भी इस मामले में लगातार बनाए रखी गई है और हर पल की रिपोर्ट गृह मंत्रालय ले रहा है।

Comments

Leave a Reply

Loading…

0

Comments

0 comments

इलाहाबाद में बीच सड़क पर वकील की गोली मार कर हत्या, तोडफोड आगजनी के साथ बिगड़ा शहर का माहौल

वकील हत्याकांड : होटल व्यवसाय विवाद में गोली मारने के मिले क्लू, जिले की सीमाएं सील