in ,

5 करोड़ भारतीय क्रोनिक हेपेटाइटिस बी से संक्रमित है : डाँ दीपक अग्रवाल

5 million Indian infected with chronic hepatitis B : Dr. Deepak Agrawal
5 million Indian infected with chronic hepatitis B : Dr. Deepak Agrawal
लखनऊ।  डाँ दीपक अग्रवाल ने बताया कि क्रोनिक हेपेटाईटिस संक्रमणों की संख्या में चीन के बाद भारत दूसरे स्थान पर है। लगभग 5 करोड़ भारतीय हेपेटाईटिस बी से क्रोनिक रूप से संक्रमित है और 1.2 करोड़ से 1.8 करोड़ भारतीयों को हेपेटाईटिस सी है। ये आंकड़े एनसीबीआई ने दिए हैं। 5 million Indian infected with chronic hepatitis B : Dr. Deepak Agrawal
आज यहां वर्ल्ड हेपेटाईटिस डे से पूर्व डॉ. दीपक अग्रवाल, एमडी, डीएम, गैस्ट्रोएंटेरोलॉजी, ग्लोबल हॉस्पिटल ने कहा कि यह आंकड़े देश में बढ़ती चिंता का विषय है क्योंकि यह वायरस बहुत तेजी से फैलने वाला है।
उन्होंने आगे कहा कि यदि हेपेटाईटिस बी एवं सी का समय पर इलाज न किया जाए, तो ये जानलेवा बीमारियां जैसे लिवर की क्रोनिक बीमारी साईरोसिस (लिवर पर धब्बे) और लिवर कैंसर तक कर सकती हैं। इसलिए वैक्सीनेशन एवं एंटीवायरल इलाज समय पर किया जाना हेपेटाईटिस के नियंत्रण के लिए बहुत जरूरी है।
5 million Indian infected with chronic hepatitis B : Dr. Deepak Agrawal
5 million Indian infected with chronic hepatitis B : Dr. Deepak Agrawal
डब्लूएचओ-एसईएआरओ के अनुसार, वायरल हेपेटाईटिस बी एवं सी स्वास्थ्य की बड़ी समस्याएं हैं, जो दुनिया में 325 मिलियन लोगों को प्रभावित कर रही हैं। हर साल साउथ ईस्ट एशिया में हेपेटाईटिस से 4,10,000 मौतें हो जाती हैं और इनमें से 81 प्रतिशत का कारण हेपेटाईटिस बी और सी की क्रोनिक बीमारियां हैं। ये दो वायरस संक्रमित खून या वायरस से पीड़ित व्यक्ति के शरीर के अन्य द्रव्यों के संपर्क में आने से फैलते हैं।
यह यौन संसर्ग, संक्रमित सुई या सिरिंज, संक्रमित इन्वेसिव मेडिकल उपकरणों के उपयोग, या माता-पिता से वर्टिकल ट्रांसमिशन द्वारा फैल सकता है। हैल्थकेयर वर्कर को सबसे ज्यादा जोखिम होता है क्योंकि वो मरीजों या संक्रमित सामग्री के लगातार संपर्क में रहते हैं।
डा0 अग्रवाल ने बताया कि  हेपेटाईटिस का भारत से 2030 तक उन्मूलन करने के उद्देष्य से यूनियन मिनिस्टर ऑफ स्टेट, हैल्थ एवं फैमिली वैलफेयर, अश्विनी कुमार चौबे ने इस साल 24 फरवरी को मुंबई में एक ‘नेशनल एक्शन प्लान – वायरल हेपेटाईटिस’ लॉन्च किया है। इस अभियान के तहत, गर्भवती महिलाओं की जाँच हेपेटाईटिस वायरस के लिए की जाती है, ताकि यह सुनिष्चित हो सके कि संक्रमित होने की स्थिति में उन्हें वैक्सीनेशन एवं उचित इलाज मिल सके।

5 million Indian infected with chronic hepatitis B : Dr. Deepak Agrawal

वायरस से पीड़ित लोगों के लिए सरकारी अस्पतालों में निशुल्क दवाई की व्यवस्था की गई है। एचआईवी/एड्स के मरीजों की जाँच पर भी ध्यान दिया जा रहा है और यदि कोई पॉज़िटिव पाया जाता है, तो उसका इलाज किया जाता है। हेपेटाईटिस बी एवं सी को नियंत्रित किया जा सकता है, लेकिन जब एक बार संक्रमण हो जाए, तो पूरे इलाज का भरोसा नहीं दिलाया जा सकता। इन्हें एंटीवायरल दवाईयों से नियंत्रित किया जाता है, जिसके लिए आजीवन दवाई की जरूरत पड़ती है।
डॉ. दीपक अग्रवाल ने कहा, ‘‘भारत में स्वास्थ्य मंत्रालय देश में हेपेटाईटिस के मामले रोकने और कम करने के उपाय कर रहा है। इन उपायों में जन्म के समय दी जाने वाली हेपेटाईटिस वैक्सीन शामिल है। यह बचपन में रूटीन इम्युनाईज़ेशन कार्यक्रम का हिस्सा है। वायरस को फैलने से रोकने के लिए वैक्सीनेशन के लिए ऑटो-डिस्पोज़ेबल सिरिंज का उपयोग किया जाता है।
जैसा हैल्थकेयर प्रोफेशनल्स ने बताया है, हमें इस संक्रामक और घातक बीमारी के प्रति जागरुकता बढ़ाने का प्रयास करना चाहिए और लोगों से आग्रह करना चाहिए कि वो समय पर अपनी जाँच करा लें। एक्यूट एचबीवी एवं एचसीवी संक्रमणों के ज्यादातर मामले एसिंपटोमेटिक होते हैं। कुछ मरीजों में लक्षण कई हफ्तों तक दिखाई देते हैं, कुछ की त्वचा व आंखें पीली पड़ जाती हैं (पीलिया) एवं गहरे रंग की मूत्र, अत्यधिक थकावट, बेहोशी, उल्टी एवं पेट में दर्द की शिकायत होती है।
इस बीमारी की क्रोनिक प्रवृत्ति उस उम्र पर निर्भर करती है, जब व्यक्ति को बीमारी का संक्रमण होता है। 6 साल से कम आयु के बच्चे, जिन्हें हेपेटाईटिस वायरस का संक्रमण होता है, उन्हें क्रोनिक संक्रमण का खतरा ज्यादा होता है; एक साल की आयु में संक्रमित होने वाले 80 से 90 प्रतिशत शिशु को क्रोनिक संक्रमण हो जाता है और 6 साल की उम्र से पहले संक्रमित होने वाले 30 से 50 प्रतिशत बच्चों को क्रोनिक संक्रमण हो जाता है।
व्यस्कों के रूप में संक्रमित होने वाले 5 प्रतिशत से कम लोगों को क्रोनिक संक्रमण होता है और क्रोनिक संक्रमण वाले 20 से 30 प्रतिशत व्यस्कों को साईरोसिस या लिवर कैंसर हो जाता है।
Nokia [CPS] IN

Written by National TV

Rajnath Singh's dream project outer ring road to check out materials used in construction : rld

राजनाथ सिंह के ड्रीम प्रोजेक्ट आउटर रिंग रोड के निर्माण में प्रयोग की गयी सामग्री की जांच हो : रालोद

Equity market is zero sum game, passive investment is likely to be India: Mahavir Kaswa

इक्विटी बाजार एक शून्य राशि का खेल है, पैसिव निवेश में है भारत की संभावना : महावीर कस्वा