in ,

महिला दिवस स्पेशल : एक ख़त देश की महिलाओं के नाम, नलिनी छाबरा की कलम से

 Written by Nalini Chhabra

प्रिय सखी,

Nokia [CPS] IN

तुम नारी हो तुम श्रद्धा हो पूजा हो अभीमान हो सम्मान होमहिला दिवस के नाम पर तुम एक दिन के सम्मान की हक दार नही जीवन दाइनी हो जन्म दात्री होशक्ती हो फिर भी निराश हो क्यू आत्मप्रबल नही हो कौन है जो रोकता है कौन है जो बेड़ीयों मे ज़कडता हैघर का अंगान तुमसे महकता है माँ शब्द रूपी ईश्वर का वरदान हो , लोग कहते है नारी तुम महान हो ………

फिर समाज मे क्यू हो रही है दुर्गती तेरी कोख से लेकर घर बाहर तुम पर पड़ती है हर नजर खूँखार सी, भारतीय समाज में जहाँ पुरूषों को पौरुष, श्रम, कठोरता, बर्बरता और अधीरता का प्रतिमूर्ति माना गया है वही नारी को त्याग, दया, करुणा, ममता और धैर्य की प्रतिमूर्ति कहा जाता है |

यथार्थ नारी की स्वीकृति को ही दर्शाते हुए जयशंकर प्रसाद जी ने अपनी कामायनी में लिखा था –

नारी तुम केवल श्रध्दा हो, विश्वास रजत नग पद तल में |

पीयूष स्रोत – सी बहा करों, जीवन के सुंदर समतल में ||

भारतीय नारी अपनी इसी विशेषता की वजह से न जाने कितने रिश्तों का निर्वाह किया करती है . बेटी के रूप में जन्म लेकर जीवन आरंभ करने वाली नारी किसी की बहन, किसी की पत्नी, और किसी की माँ होती है .

इतिहास गवाह है कि भारतीय नारी पुरुष को प्रतिष्ठा और उपलब्धि के सर्वोच्च शिखर पर आरूढ़ करने के लिए स्वयं को भी दाव पर लगा दिया करती है . नारी के इसी अभिनव व्यक्तित्व और कृतित्व को लक्ष्य कर कही गयी यह उक्ति एक सर्वमान्य सत्य बनकर स्थापित हो गई है कि प्रत्येक पुरुष के सफलता में एक स्त्री का हाथ होता है ,

लेकिन विडम्बना देखिए नारी – सामर्थ पर सवाल हमेशा ही उठते रहे हैं , लज्जा के दामन तार तार टूटते रहेनारी को जो सम्मान (अवस्था) हमारी पुरानी भारतीय संस्कृति में था वह सम्मान वह अवस्था आज भी नारी को नहीं मिल सका है .

जबकी भारत में मां दुर्गा और काली की पूजा होती है पर स्त्री सम्मान मे आज भी कमी है …

Nokia [CPS] IN

नलिनी छाबरा…..


Nokia [CPS] IN

Nokia [CPS] IN

Written by National TV

Comments

Leave a Reply

Loading…

0

Comments

0 comments

जानिए! इस शिव मंदिर में पूजा करने वालो का होता हैं बुरा, नहीं चढ़ता शिवलिंग पर जल

सीएम योगी आदित्यनाथ के हेल्पलाइन दफ्तर में लड़कियों के साथ शर्मनाक हरकत