in

भाजपा विधायक साधना सिंह ने 3 मुकदमें में गिरफ्तारी के आदेश पर स्पेशल कोर्ट में किया सरेंडर, मिली जमानत

इलाहाबाद / प्रयागराज :भारतीय जनता पार्टी की चंदौली से विधाायक साधना सिंह के उपर दर्ज तीन अलग अलग आपराधिक मुकदमे में जमानत मिल गयी है। साधना सिंह की गिरफ्तारी का आदेश स्पेशल कोर्ट ने दिया था। जिसके बाद आनन फानन में साधना सिंह ने प्रयागराज की स्पेशल सांसद विधायक कोर्ट में सरेंडर किया और उन्हे जमानत मिल गयी। हालांकि वकीलों की हड़ताल और बवाल के बीच संभावना थी कि साधना सिंह को जमानत नहीं मिलेगी और वह न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेजी जा सकती है। लेकिन आगे की तारीखों पर हाजिर होने का शपथ पत्र देने व केस में पूरी तरह से मदद करने के साथ कोर्ट को विशेष परिस्थितियों का हवाला दिया गया। जिसके आधार पर  3 घंटे तक न्यायिक हिरासत में रहने के बाद उन्हे जमानत दे दी गयी है। साधना सिंह पर तीनों मुकदमें चंदौली में ही दर्ज हुये हैं और अब उनके मुकदमों की सुनवाई स्पेशल कोर्ट में शुरू हुई है।
पहला मामला
विशेष कोर्ट एमपी एमएलए में आयी पत्रवली के अनुसार साधना सिंह पर एक बड़ा मामला 10 साल पहले 2009 में दर्ज हुआ था। 22 सितंबर को शहाबगंज इलाके में खाद्य निरीक्षक दुकानों पर छापेमारी कर रहे थे और खाद्य पदार्थों का नमूना ले रहे थे। कयी दुकानों पर खराब सामान मिलने के बाद उनका सीला किया जाना भी तय थी। इसी बीच व्यापारियों ने साधना सिंह को सूचना दे दी और वह भी मौके पर पहुंच गयी और खाद्य निरीक्षक से बातचीत करने लगी। हालांकि अधिकारी ने किसी भी तरह की नरमी दिखाने से साफ इंकान कर दिया। आरोप है कि साधना सिंह ने व्यापारियों को उकसाया और खाद्य निरीक्षक की टीम पर व्यापारियों से हमला कर दिया। इसी मामले में खाद्य निरीक्षक सूर्यलाल पर हमला करने के मामले में शहाबगंज थाने में साधना सिंह पर मुकदमा दर्ज किया गया था। मुकदमे की सुनवाई में हाजिर न होने पर कोर्ट ने सख्त रूख अपनाया तो अब साधना सिंह ने सरेंडर कर जमानत ले ली है।
दूसरा मामला
साधाना सिंह पर 25 साल पहले जनवरी 2004 में सड़क पर बवाल करने का मामला चंदौली कोतवाली में दर्ज किया गया था। साधना पर आरोप था कि कचहरी के सामने जीटी रोड पर ही साधना अपने समर्थकों संग उतर आयी थी और रोड पर ही भाषणबाजी के बाद सड़क को जाम कर दिया गया था। सड़क पर काफी देर तक हंगामा हुआ और आवागमन बंद हो गया था। बाद में पुलिस ने इसी मामले में कार्रवाई करते हुये चंदौली के कोतवाली थाने में 19 जनवरी 2004 को मुकदमा दर्ज कराया। जिसमें साधना सिंह प्रमुख आरोपी है। इस मुकदमे में भी अब साधना सिंह ने जमानत हासिल कर ली है।
तीसरा मामला
2004 में जब मुलायम सिंह यूपी की सत्ता पर काबिज थे उसी दौरान साधना सिंह ने चंदौली में स्थानीय समस्याओं को लेकर प्रदर्शन किया था और सड़क पर सैकड़ों के साथ उतर कर जाम लगाया गया था। इस मामले में चंदौली कोतवाली थाने में 21 जनवरी 2004 को मुकदमा दर्ज हुआ। जिसमें साधना सिंह मुख्य आरोपी बनायी गयी। इन पर आरोप है कि इन्होंने समर्थकों के साथ जाम लगाकर सरकार विरोधी नारे लगाए।
Nokia [CPS] IN

Written by Amarish Shukla

प्रयागराज में वकील की हत्या पर हड़ताल पर गये वकील, तहसीलों से लेकर कचहरी तक तालाबंदी, विरोध के बाद बढाई गयी सुरक्षा

मिठाई के डिब्बे में कूड़ा लेकर नगर निगम पहुंचे कांग्रेसी, नगर आयुक्त पर फेंकने से पहले पुलिस ने छीना, झड़प